कॉमेडियन कपिल शर्मा को अवैध निर्माण मामले में हाइकोर्ट से मिली राहत

कपिल शर्मा के वर्सोवा ऑफिस का अवैध हिस्सा तोड़े जाने के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट अब 23 नवंबर को सुनवाई करेगा।

मुंबई। अवैध निर्माण के मामले में कॉमेडियन कपिल शर्मा को बॉम्बे हाइकोर्ट से अंतरिम राहत मिल गई है। कपिल शर्मा के वर्सोवा ऑफिस का अवैध हिस्सा तोड़े जाने के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट अब 23 नवंबर को सुनवाई करेगा। बृहन्नमुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने अप्रैल में इसे ढहाने को लेकर कपिल को नोटिस भेजा था। इससे पहले कपिल ने बीएमसी के अधिकारियों पर रिश्वत लेने का आरोप लगाकर विवाद खड़ा कर दिया था। हाइकोर्ट ने सोमवार को अवैध निर्माण ढहाने के अमल पर अंतरिम रोक लगा दी है।


कृति सेनन ने सबके सामने सुशांत सिंह राजपूत को जड़ा थप्पड़!


बीएमसी ने कपिल शर्मा के वर्सोवा स्थित ऑफिस पर भी पर्यावरण नियमों के उल्लंघन करने को आरोप लगाया है। टीवी कलाकार इन आरोपों को लगातार खारिज करते रहे हैं। दरअसल, कपिल शर्मा ने बीएमसी के एक अधिकारी पर पांच लाख रुपये का घूस मांगने का आरोप लगाया था। ट्विटर पर उन्होंने प्रधानमंत्री को भी टैग किया था।


बता दें कि कपिल गोरेगांव के डीएलएच एनक्लेव की 18 मंजिला इमारत के एक फ्लैट में रहते हैं। बीएमसी ने फ्लैट में भी अवैध निर्माण का आरोप लगाते हुए मुंबई नगर निगम अधिनियम की धारा 351 के तहत 28 अप्रैल को नोटिस भेजा था। उनके वकील प्रदीप थोराट ने जस्टिस रणजीत मोरे और अनुजा प्रभुदेसाई की खंडपीठ को बताया कि डीएलएच लिमिटेड नोटिस के खिलाफ हाइकोर्ट में अर्जी दाखिल कर चुका है। उसकी सुनवाई 23 नवंबर को होनी है। इस पर जस्टिस मोरे ने कपिल शर्मा की अर्जी को भी उसके साथ जोड़ने का निर्देश दिया और तब तक के लिए इसके अमल पर रोक लगा दी।


कपिल ने अपनी अर्जी में कोर्ट को बताया कि बीएमसी ने मार्च और अप्रैल 2010 में डेवलपर को 18 मंजिला इमारत बनाने की इजाजत दी थी। 6 नवंबर, 2013 को फुल अक्युपेशन सर्टिफिकेट भी जारी कर दिया गया था। इसके बाद 14 नवंबर, 2014 को बिल्डिंग एंड फैक्ट्री विभाग के असिस्टेंट इंजीनियर ने फ्लैट में अवैध निर्माण करने को लेकर नोटिस जारी किया था। बकौल कपिल, उन्होंने इसका जवाब भी दिया था, लेकिन निगम ने उनके स्पष्टीकरण को स्वीकार नहीं किया। इसके बाद उन्होंने सेशन कोर्ट में याचिका दायर कर दी।