आंधी में उड़ी स्टेडियम के बहुद्देशीय हाल की शेड


एनएनआई
विशाल अग्रवाल (फैजाबाद) : बीती रात आई तेज आंधी की वजह से कई स्थानों पर पेड़ गिर गए, जबकि बिजली आपूर्ति भी ठप हो गई। तेज आंधी में अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम के बहुद्देशीय हाल की शेड उड़ गयी, जबकि बैड¨मटन हाल की छत का हिस्सा भी ढह गया। आंधी व बारिश की वजह से आम की फसल को भी नुकसान हुआ है। कई स्थानों पर ओले गिरने की भी खबर है। हालांकि जनहानि की कोई सूचना नहीं है।

बीती रात करीब 11 बजे से आंधी की शुरुआत हुई। आंधी के दौरान हवा की रफ्तार 50 किलोमीटर प्रति घंटे के करीब रही। तेज आंधी में अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम के निर्माण कार्य की गुणवत्ता की पोल भी खुल गई। स्टेडियम के बहुद्देशीय हाल की शेड फूल की तरह उड़ गई। शेड का बड़ा हिस्सा भरभरा कर उखड़ गया, जबकि बैड¨मटन हाल की छत को भी नुकसान हुआ है। इसके साथ ही शहर से लेकर गांव तक बिजली के पोल व पेड़ गिरने से लोगों की दिक्कतें बढ़ गई। पुलिस लाइन में लगा पेड़ गिर गया। विद्युत वितरण खंड प्रथम में आधा दर्जन से ज्यादा बिजली के पोल गिर गए, जबकि कई स्थानों पर पोल टूट गए। इस वजह से बीती रात करीब 11 बजे से ही बिजली आपूर्ति बाधित रही। ग्रामीण क्षेत्रों में तो मंगलवार की शाम तक बिजली आपूर्ति सामान्य़ नहीं हो सकी है।

-----------------------------------

12 मई तक खुशनुमा रहेगा मौसम

आगामी 12 मई तक मौसम का मिजाज खुशनुमा रहने की संभावना है। इसकी वजह पर्वतीय इलाकों में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ है। इस वजह से आगामी 12 मई तक बादल छाए रहेंगे और कहीं-कहीं बूंदाबांदी हो सकती है। इसके साथ ही तेज हवाएं भी चल सकती हैं। मौसम विज्ञान विभाग के लखनऊ अध्याय के अध्यक्ष प्रो. पद्माकर त्रिपाठी के मुताबिक विक्षोभ 11 मई तक विशेष रूप से प्रभावी रहेगा। इस वजह से फैजाबाद के साथ ही आसपास के जिलों में भी बदली छाई रहेगी। बीती रात हुई बारिश से तापमान में खासी कमी आ गई। कई दिनों के बाद मंगलवार को पारा 40 डिग्री के नीचे रिकार्ड किया गया। अधिकतम तापमान साढ़े 35 व न्यूनतम 20 डिग्री सेल्सियस रहा। अधिकतम आ‌र्द्रता 86 व न्यूनतम 51 फीसदी रही।

अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम के निर्माण कार्यों की खुली पोल

-भवनों की गुणवत्ता कटघरे में

संसू, फैजाबाद : डॉ. भीमराव अंबेडकर अंतरराष्ट्रीय स्पो‌र्ट्स कॉम्प्लेक्स में निर्मित भवनों के निर्माण कार्य की पोल खुलने लगी है। करोड़ों रुपए से तैयार हुआ यह स्टेडियम आंधी तक को सहने के लायक नहीं है। बीती रात आई आंधी में कॉम्प्लेक्स में बने बहुद्देशीय हाल की छत पर लगा शेड तो उड़ ही गया, बैड¨मटन हाल की छत का एक हिस्सा भी जमीन पर आ गिरा। इससे निर्माण कार्य को लेकर सवाल उठने लगे हैं।

इस मल्टीपरपज हाल में खेल को शुरू हुए अभी वर्ष भर भी नहीं बीता है और अभी से छत दरकनी शुरू हो गई। विशेषज्ञ मानते हैं कि किसी भी हाल का टीन शेड जब लगाया जाता है तो वह इतना पुख्ता होना चाहिए कि आंधी-पानी सह सके। वर्ष 2006 से बन रहे डॉ. भीमराव अंबेडकर अंतरराष्ट्रीय स्पो‌र्ट्स कॉम्प्लेक्स में लगभग दस माह पूर्व क्षेत्रीय क्रीड़ा कार्यालय शिफ्ट हुआ था। इसके बाद मल्टीपरपज हाल में खेल गतिविधियां शुरू हुईं। यहां पर चल रहे स्पो‌र्ट्स हॉस्टलों के खेलों का संचालन शुरू हुआ। उपक्रीड़ा अधिकारी अखिल चौधरी ने बताया कि आंधी से मल्टीपरपज हाल के ऊपर लगा टीन शेड उड़ गया। बैड¨मटन हाल की छत का एक हिस्सा भी गिर गया।

------------------------------

फिर से बनेगी छत

टीन शेड उड़ने और छत गिरने के बाद कार्यदायी संस्था के भी होश फाख्ता हो गए हैं। हालात का जायजा लेने पहुंचे जल निगम सीएंडडीएस के इंजीनियर आरके श्रीवास्तव ने कहा कि छत को फिर से बनवाया जाएगा। टीन शेड को मजबूती दी जाएगी, हालांकि उन्होंने निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर उठ रहे सवालों से कन्नी काट ली।

प्रेस रिपोर्टर - विशाल अग्रवाल
एनएनआई
फैज़ाबाद
8090000703