प्रद्युम्न की हत्या: कोर्ट में अपने बयान से पलटा आरोपी बस कंडक्टर,बोला- 'मैं निर्दोश हूं'

गुरुग्राम. रेयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी कक्षा के छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या के मामले में एक नया मोड आ गया है। स्कूल बस कंडक्टर अशोक कोर्ट में अपने बयान से पलट गया है। उसने स्थानीय कोर्ट में कहा है कि वह निर्दोश है और जुर्म कबूल करने के लिए पुलिस ने उस पर दबाव बनाया था। आरोपी अशोक के वकील ने कहा कि अदालत में दिया गया बयान ही मायने रखता है। दोनों पक्षों को सुनने के बाद कोर्ट ने अशोक को 29 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

 

वकील का दावा जुर्म कबूलने के लिए 25 लाख रुपए 

-इससे पहले अशोक के वकील ने भी कहा था कि पुलिस अशोक को फंसा रही है। 

-अशोक ने अपने वकील को बताया था कि पुलिस ने उसे दो दिन के लिए चुप रहने को कहा था और फिर छोड़ देने का वादा किया था।

-यही नहीं कंडक्टर के कपड़ों पर खून के निशान बच्चे को गोद में उठाने के बाद लगे थे और उसके पास कोई चाकू नहीं था। 

-आरोपी अशोक के वकील ने तो यहां तक दावा किया था कि अशोक को जुर्म कबूलने के लिए 25 लाख रुपए देने का ऑफर भी किया गया।

 

स्कूल के ड्राइवर ने किया था खुलासा

-बता दें कि इससे पहले स्कूल बस के ड्राइवर ने खुलासा किया था कि जिस चाकू से प्रद्युम्न का मर्डर हुआ वह चाकू बस टूल किट का नहीं है। 

-ऐसे कहने के लिए पुलिस ने उस पर दबाव बनाया था।