आधार से लिंक नहीं होने से राशन नहीं मिला, बच्ची भात-भात पुकारते पुकारते मर गई

 नई दिल्लीः सरकार राशन कार्ड को आधार से लिंक करने की बात कह रही है लेकिन इस काम में देरी होने के चलते लोगों को राशन की सामग्री नहीं मिल पा रही है। राशन नहीं मिलने से लोगों के भूखे मरने की खबरें आनी शुरू हो गई है।

ऐसा ही एक वाक्या बीजेपी शाषित राज्य झारखंड से आया है। सिमडेगा जिले के एक गांव में भूख से एक बच्ची के मरने की खबर है। 11 साल की संतोष कुमारी ने पिछले कई दिनों से नहीं खाया था। संतोष अपने परिवार के साथ कारीमाटी मे रहती थी।

यह सिमडेगा जिले के जलडेगा प्रखंड की पतिअंबा पंचायत का एक गांव है।  संतोष की मां कोयली देवी का कहना है, मैं चावल लेने के लिए राशन की दुकान पर गई थी लेकिन राशन वाले ने मुझे राशन देने से मना कर दिया। मेरी बेटी भात-भात पुकारते मर गई। कोयली देवी के पास बीपीएल कार्ड था लेकिन राशन नहीं मिलता था।

बताया जा रहा है कि राशन वाले ने आधार लिंक नहीं होने की वजह से उनका कार्ड कैंसिल कर दिया था। मीडिया में चल रही खबरों की मानें तो गांव के राशन वाले ने पिछले आठ महीने से उन्हें राशन देना बंद कर दिया था। क्योंकि, उनका राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं था।

हालांकि झारखंड के खाद्य आपूर्ति मंत्री का कहना है कि हमारी तरफ से साफ निर्देश है कि जिन लोगों का राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं है उन्हें राशन देने से इंकार नहीं किया जा सकता है।