वाह रे देवबंद के उलेमा, औरतों के लिए कुछ और विचार और सलमान खुर्शीद के लिए कुछ और...

देवबंदः वाराणसी में कुछ मुस्लिम महिलाओं  द्वारा श्रीराम की आरती उतारे जाने के बाद उन्हें इस्लाम से खारिज करने के देवबंद के फतवे के बाद एक वीडियो वायरल होने से यहां के मौलानाओं के मुंह पर ताले लग गए हैं।

वीडियो में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद को भगवान श्रीराम की आरती उतारते हुए देखा जा सकता है। 

इस बारे में देवबंद के उलेमाओं ने सिर्फ ऐसे कार्यों से तौबा करने की हिदायत दी है। मदरसा जामिया  हुसैनिया के मुफ्ती तारीक कासमी ने सलमान खुर्शीद को फिर से कलमा पढ़ने को कहा है। उन्होंने कहा कि इस्लाम मजहब में अल्लाह के सिवा किसी की इबादत नहीं की जा सकती। 

दिवाली पर लखनऊ और वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं द्वारा श्रीराम की आरती कर दीए जलाने और बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल द्वारा भगवान धन्वंतरी की पूजा और आहूति देने वाले मामले में उलेमाओं ने सख्त रवैया अपनाया था लेकिन सलमान खुर्शीद के मामले में सिर्फ कलमा पढ़ने की नसीहत दी जा रही है। 

उलेमाओं ने कहा कि जो लोग किसी दबाव या अपनी खुशी से कर रहे हैं वह स्वंय ही इस्लाम मजहब से खारिज हो जाते हैं। 

उलेमाओं ने कहा कि अगर सलमान खुर्शीद ने ऐसा किया है तो उन्हें तौबा कर अपने गुनाह की माफी मांगनी होगी। 

वाराणसी में कुछ मुस्लिम महिलाओं  द्वारा श्रीराम की आरती उतारे जाने के बाद उन्हें इस्लाम से खारिज करने के देवबंद के फतवे के बाद एक वीडियो वायरल होने से यहां के मौलानाओं के मुंह पर ताले लग गए हैं।

वीडियो में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद को भगवान श्रीराम की आरती उतारते हुए देखा जा सकता है। 

इस बारे में देवबंद के उलेमाओं ने सिर्फ ऐसे कार्यों से तौबा करने की हिदायत दी है। मदरसा जामिया  हुसैनिया के मुफ्ती तारीक कासमी ने सलमान खुर्शीद को फिर से कलमा पढ़ने को कहा है। उन्होंने कहा कि इस्लाम मजहब में अल्लाह के सिवा किसी की इबादत नहीं की जा सकती। 

दिवाली पर लखनऊ और वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं द्वारा श्रीराम की आरती कर दीए जलाने और बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल द्वारा भगवान धन्वंतरी की पूजा और आहूति देने वाले मामले में उलेमाओं ने सख्त रवैया अपनाया था लेकिन सलमान खुर्शीद के मामले में सिर्फ कलमा पढ़ने की नसीहत दी जा रही है। 

उलेमाओं ने कहा कि जो लोग किसी दबाव या अपनी खुशी से कर रहे हैं वह स्वंय ही इस्लाम मजहब से खारिज हो जाते हैं। 

उलेमाओं ने कहा कि अगर सलमान खुर्शीद ने ऐसा किया है तो उन्हें तौबा कर अपने गुनाह की माफी मांगनी होगी।