अपनों को ढूंढ रहें हैं लोग, पल भर में 213 की गई जान

सुलेमानिया. प्राकृतिक आपदा के आगे किसी की नहीं चलती है। दुनिया हर दिन मॉडर्न होती जा रही है। लेकिन, प्रकृति के आगे किसी का नहीं चला है। इराक-इरान बॉर्डर के समीप भी रविवार की रात ऐसा ही हुआ। पल भर में कई बच्चे अनाथ हो गए। कितनों ने अपनी संतानें खो दी। सैकड़ों जिंदगियां अपाहिज हो गई।

 

क्या है मामला

- दरअसल, रात 1 बजे के करीब यहां भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

- इसके बाद जो लोग नींद में सो रहे थे। उनके लिए दिन कभी नहीं हो सका।

- रिक्टर पैमाने पर 7.3 तीव्रता के भूकंप ने 213 लोगों की जान ले ली।

- इस प्राकृतिक आपदा में 1700 के करीब लोग घायल हुए हैं।

- भूकंप के बाद इराक और ईरान के बॉर्डर इलाकों से तबाही की तस्वीरें सामने आई हैं। 

- सबसे ज्यादा नुकसान ईरान के शहरों में देखने को मिला है।

 

मौत का आंकड़ा बढ़ने की संभावना

- इस भूकंप के चलते ईरान के कई प्रॉविन्स में नुकसान हुआ है।

- केरमन्शाह के डिप्टी गर्वनर मोजताबा निक्करडार ने मौत के आंकड़े बढ़ने की संभावना जताई है। 

- मोजताबा ने बताया कि अब भी यहां बढ़ी संख्या में लोग मलबे में दबे हैं। 

- उन्होंने कहा कि मौत और जख्मी लोगों के आंकड़े और न बढ़ें, लेकिन इसके बढ़ने की उम्मीद है।