प्याज की कीमतों में जल्द आएगी गिरावट, मुनाफाखोरी से कम हुआ सप्लाई

नई दिल्ली. प्याज के दाम एक बार फिर आसमान छू रहा है। आम लोगों की थाली से प्याज दूर हो रहा है। प्याज के बढ़ते दामों से लोग चिंतित हो गए हैं। बता दें कि प्याज का थोक भाव इस समय 3300 रुपए प्रति क्विंटल के पार पहुँच गया है।

 

क्या है वजह

- प्याज की कीमतों में बढ़ोतरी के पीछे सट्टेबाजों और मुनाफाखोरों की भूमिका है।

- इसके अलावा गुजरात, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और पश्चिम बंगाल आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

- केन्द्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कीमतें नियंत्रित करने के लिए एक्टिव हो गई है।

- राज्यों/संघ शासित क्षेत्रों को प्याज के व्यापारियों पर स्टॉक लिमिट लगाने का निर्देश दिया है।

 

मंडी में हो रहा इजाफा

- देश की सबसे बड़ी प्याज मंडी महाराष्ट्र के लासलगांव में प्याज की कीमतों में रोजाना इजाफा हो रहा है।

- शनिवार को मंडी में करीब 20700 क्विंटल प्याज की आवक हुई और भाव 3300 रुपये प्रति क्विंटल रहा ।

- इस अधिसूचना के बाद अब राज्य सरकार प्याज के संबंध में स्टॉक सीमा लगा सकेंगे। 

- गत जुलाई से प्याज की कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही है।