1947 में नहीं इस तारीख को आजाद हुआ था गोवा, आजादी का जश्न मना रहे हैं लोग

देश का एक ऐसा राज्य जिसे आजादी 15 अगस्त 1947 को नहीं मिली थी। देश आजाद हो गया था। लेकिन, इस राज्य के लोग 14 सालों तक पराधीन थे। जी हां, हम बात कर रहे हैं गोवा की। इस राज्य को आज ही के दिन यानी 19 दिसंबर 1961 को आजादी मिली थी। आजादी के 14 साल बाद तक पुर्तगालियों का यहां कब्जा था।

 

ऐसे हुआ था आजाद

- नैचुरल ब्यूटी के लिए मशहूर गोवा पर्यटकों का पसंदीदा राज्य है।

- समुद्र के किनारे होने की वजह से व्यापार के लिए पुर्तगालियों ने इसपर कब्जा जमाया था।

- गोवा के साथ-साथ दमन और दीव पर भी पुर्तगालियों का ही कब्जा था।

- आजादी के बाद कई सालों तक बातचीत के जरिए समाधान नहीं निकला।

 

'ऑपरेशन विजय अभियान' से मिली जीत

- बातचीत का रास्ता खत्म होने के बाद भारतीय सेना को इस्तेमाल किया गया।

- 19 दिसम्बर, 1961 को भारतीय सेना ने 'ऑपरेशन विजय अभियान' शुरू कर दिया।

- इसके तहत गोवा, दमन और दीव को पुर्तगालियों के शासन से मुक्त कराया गया था।

- कुछ घंटों तक चली लड़ाई के बाद पुर्तगाली सेना को मजबूरी में हार माननी पड़ी।

- यहां के गर्वनर ने सरेंडर कर गोवा को भारत सरकार को सौंप दिया।

- इसके बाद से ही इसे Goa Liberation Day 'गोवा मुक्ति दिवस' के रूप में मनाया जाता है।

- गोवा में आज भी पुर्तगाली संस्कृति काफी दिखती है। यहां ईसाइयों की बड़ी संख्या है।