पद्मावती पर हो सकता है कोई फैसला, CBFC ने समीक्षा के लिए कमेटी बनाई

सेन्ट्रल बोर्ड आॅफ फिल्म सर्टिफिकेशन यानि CBFC ने फिल्म पद्मावती की समीक्षा के लिए इतिहासकारों और पूर्व राजघराने की समिति गठित की है।  समिति में 6 सदस्यों को शामिल किया गया है। फिल्म को रिलीज करने को लेकर सभी सदस्य अपनी अलग-अलग राय देंगे। उसके बाद बहुमत के हिसाब से निर्णय लिया जाएगा।

यह फिल्म अगले साल मार्च तक रिलीज होने की संभावना है। सीबीएफसी सूत्रों का कहना है कि पद्मावती के निर्माताओं ने फिल्म के प्रमाणन के लिए भेजे अपने आवेदन में कई काॅलम को ब्लैंक छोड़कर मामले को जटिल बना दिया। 

बता दें कि विवादों की वजह से 1 दिसंबर को रिलीज होने वाली फिल्म पद्मावती को टाल दी गई थी। फिल्म को पहले निमार्ताओं के पास वापस भेज दिया था, क्योंकि उन्होंने उस कॉलम को रिक्त छोड़ दिया था, जिसमें यह लिखना था कि यह फिल्म काल्पनिक है या ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित है।

सूत्र ने बताया कि सीबीएफसी ने कहा कि पद्मावती को जनवरी में ही प्रमाणित किया जा सकता है, क्योंकि दिसंबर तो लगभग बीत रहा है। पद्मावती से पहले विभिन्न भाषाओं की कम से कम 40 फीचर फिल्में कतार में हैं। सूत्र ने कहा कि वर्ष का अंतिम महीना होने के कारण बोर्ड के कुछ सदस्य छुट्टी पर हैं और कुछ अन्य बीमार हैं।

हिमाचल प्रदेश और गुजरात चुनाव से ठीक पहले राजपूत संगठनों ने इसके खिलाफ आंदोलन तेज कर दिया था।