अपने 'बाॅस' की सेवा करने 'झूठे अपराध' में जेल पहुंच गए लालू के दो खास सेवक

नई दिल्लीः चारा घोटाले में साढ़े तीन साल की सजा पाए आरजेडी के अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव की जेल में खातिरदारी के लिए पार्टी के दो कार्यकर्ता खुद अपराध कर जेल पहुंच गए हैं।

जेल में वे लालू यादव की सेवा में लगे हुए हैं। मामला सामने आने पर आरजेडी की ओर से सफाई दी गई है कि पार्टी ने इन दोनों को जेल जाने के लिए नहीं कहा है। हालांकि पार्टी ने यह स्वीकार किया है कि दोनों ही पार्टी के कार्यकर्ता है।

लालू की सेवा करने की चाहत में उनकी पार्टी के दो कार्यकर्ता मनगढ़ंत अपराध में बिरसा मुंडा जेल पहुंच गए हैं। दोनों ने अपने पड़ोसियों को इस मामले में पुलिस में शिकायत देने के लिए कहा था। इनमें से एक उनका रसोइया और दूसरा लालू यादव का सहायक है।

मामला सामने आने के बाद जनता दल यूनाइटेड ने लालू की आलोचना की है। पार्टी के मुख्‍य प्रवक्‍ता संजय सिंह ने लालू यादव पर निर्दोष लोगों को अपराध में धकेलने का आरोप लगाया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लालू यादव के रसोइये का नाम लक्ष्‍मण महतो और सहायक का मदन यादव है। रांची के बिरसा मुंडा जेल में वे दोनों लालू यादव की सेवा में जुटे हैं। सुमित यादव नाम के एक व्‍यक्ति ने मदन और लक्ष्मण के खिलाफ मारपीट और दस हजार रुपये छीनने का मामला दर्ज कराया था।

यह मामला रांची स्थित डोरंडा थाना पहुंच गया, लेकिन वहां के थाना प्रभारी ने मामला दर्ज करने से इनकार कर दिया था। इस पर सुमित ने एक दूसरे थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई। इसके बाद लक्ष्मण और मदन ने कोर्ट में सरेंडर किया जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया। रांची निवासी मदन डेयरी का काम करता है।

पिछली बार भी रांची जेल में जब लालू यादव बंद थे तब वो ऐसे ही किसी मामले में जेल पहुंच गया था। वहीं, लक्ष्मण लालू यादव का खास सेवक है। वह उनके खाने से लेकर दवा तक का पूरा ध्यान रखता है।