अखिलेश ने कहा, फिलहाल वे गठबंधन के बारे में नहीं सोच रहे हैं, क्योंकि इसमें वक्त खराब होता है

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि 2019 में होने वाला लोकसभा चुनाव बेहद निर्णायक होगा। फिलहाल वे अपने दम पर चुनाव लड़ने की सोच रहे हैं। किसी भी दल के साथ गठबंधन के बारे में नहीं सोच रहे हैं।

न्यूज एजेंसी पीटीआई भाषा को दिए इंटरव्यू में अखिलेश ने कहा कि मेरी पहली प्राथमिकता उत्तर प्रदेश में सपा के वोट बैंक को और मजबूत करने की है। उसके बाद दूसरे राज्यों में भी जनाधार को बढ़ाएंगे। अखिलेश ने कहा कि उनकी पार्टी दूसरे राज्यों में भी चुनाव लड़ेगी। 

उन्होंने कहा कि इस समय हम किसी दल से गठबंधन करने के बारे में नहीं सोच रहे हैं, क्योंकि इससे काफी वक्त खराब होता है, और मैं किसी भ्रम में नहीं पड़ना चाहता हूं। मालूम हो कि सपा ने पिछले साल प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस से गठबंधन किया था।

अखिलेश ने कहा कि वह सपा कार्यकर्ताओं में जोश भरने के लिये एक बार फिर ‘रथ यात्रा’ निकालेंगे। इसके लिये मार्गयोजना तैयार की जा रही है। जनता को सपा से उम्मीदें हैं, क्योंकि यही दल भाजपा को रोक सकता है। 

उन्होंने कहा कि योगी सरकार जनता को बेवकूफ बनाने के बजाय केन्द्र से बड़ा आर्थिक पैकेज मांगे. आखिर भाजपा और उसके सहयोगी दलों ने उत्तर प्रदेश की 80 में से 73 लोकसभा सीटें जीती हैं।