आसाराम यौन उत्पीड़न मामले में गवाह के हत्यारोपी ने किए कई सनसनीखेज खुलासे

शाहजहांपुरः आसाराम बापू यौन उत्पीड़न मामले में गवाह की हत्या के आरोप में जेल में बंद नारायण पांडे की बीती राज हालत बिगड़ गई। आनन-फानन में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में नारायण पांडेय ने आसाराम यौन उत्पीड़न मामले  में कई चैकाने वाले खुलासे किए। खुद को निर्दोष बताते हुए नारायण पांडेय ने नार्को टेस्ट से लेकर सीबीआई जांच कराने की बात रखी। 

सूत्रों के अनुसार, उसने कहा कि अगर दोषी पाया गया तो फांसी की सजा भी मंजूर है लेकिन उसने अपराध नहीं किया है। 

नारायण पांडेय ने लड़की के पिता का नारको टेस्ट कराने की मांग की। बता दें कि नारायण पांडे पिछले 2 साल से जिला कारागार में बंद है। कड़ी सुरक्षा के बीच में उसका इलाज चल रहा है। 

गवाह कृपाल सिंह की हत्या आरोप में बंद नारायण पांडे की रात में अचानक हालत बिगड़ गई । डॉक्टरों की माने तो उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी और उसने कमजोरी की शिकायत दर्ज कराई थी। जिसके बाद कड़ी पुलिस सुरक्षा व्यवस्था के बीच उसे जिला अस्पताल ले जाया गया जहां उसका इलाज शुरू किया गया। 

आसाराम यौन शोषण की शिकार पीड़िता शाहजहांपुर की ही रहने वाली है। इस मामले के मुख्य गवाह कृपाल सिंह की 2015 में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

गवाह की हत्या में नारायण पांडे और कार्तिक को नामजद किया गया था । जिसके बाद नारायण पांडे को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया था। फिलहाल, हालत बिगड़ने पर कड़ी सुरक्षा के बीच में उसका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। 

नारायण पांडेय ने पीड़िता के पिता पर गवाह कृपाल सिंह की हत्या का आरोप लगाया है। उसने कहा कि पीड़िता के पिता का नारको टेस्ट कराया जाए तो सच्चाई सबके सामने आ जाएगी।