FBI ने जारी की भारत की बहादुर बेटी नीरजा भनोट के हत्यारों की तस्वीरें

नई दिल्ली। अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई ने हीरोइन ऑफ हाईजैक बनी नीरजा भनोट के कातिलों की फोटो जारी की है। हाईजैकर्स मोहम्मद हाफिज अल टर्की, जमाल सईद अब्दुल रहीम, मोहम्मद अब्दुल्ला खलिल हुसैन अर्याल और मोहम्मद अहमद अल मुन्नव्वर की तस्वीर जारी की गई। बता दें कि पैन एम की एअर होस्टेस रही नीरजा भनोत ने अपनी जान पर खेलकर 360 लोगों को मरने से बचाया था।

हाइजैकर्स ने नीरजा की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इन तस्वीरों को साल 2000 में एफबीआई द्वारा प्राप्त एज-प्रोग्रेसन टेक्नोलॉजी और मूल तस्वीरों का उपयोग करके एफबीआई प्रयोगशाला द्वारा बनाया गया था।

5 सितम्बर 1986 के दिन यह घटना घटी थी। इसके दो दिन बाद नीरजा का बर्थडे था। वो मुंबई से अमेरिका जाने वाली पैन एम 73 फ्लाइट में सवार थीं। लेकिन कराची पहुंचते ही विमान को हाईजैक कर लिया गया था। 

जब विमान कराची पहुंचा तो आतंकी सिक्‍योरिटी की ड्रेस में एयरक्राफ्ट के अंदर घुसे। आतंकियों ने नीरजा को आदेश दिया कि वह सारे यात्रियों के पासपोर्ट कलेक्‍ट करें, जिससे विमान में सवार यात्रियों के बारे में पता चल सके।

एयरक्राफ्ट के अंदर घुसते ही आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी और एयरक्राफ्ट को अपने कब्‍जे में ले लिया। आतंकी इस फ्लाइट को इजरायल में ले जाकर क्रैश करना चाहते थे। इस फ्लाइट में नीरजा मुख्य पर्सर के रूप में तैनात थीं. इस फ्लाइट में करीब 369 यात्री मौजूद थे।

नीरजा ने उस मुश्किल के क्षण में ऐसी हिम्मत दिखाई जिसकी वजह से आज भी वह दुनिया में याद की जाती है। इमरजेंसी दरवाजे से नीरजा ने लगभग सभी को बाहर निकाल दिया। 3 बच्चों को बाहर निकालते वक्त आतंकियों ने उनपर गोलियों की बौछार कर दी और उनकी मौत हो गई।

उनकी शहादत पर भारत ने ही नहीं बल्कि अमेरिका और पाकिस्तान ने भी आंसू बहाए थे। ये देश की पहली ऐसी नागरिक थीं, जिन्‍हें अशोक चक्र, जैसे किसी सर्वोच्‍च सैनिक सम्‍मान से नवाजा गया था। पहली बार पाकिस्तान ने भी भारत की बेटी को तमगा-ए-इंसानियत का सम्मान दिया।

गौरतलब है कि एक पत्रकार पिता और होममेकर मां की लाडो नीरजा चंडीगढ़ में 7 सितम्बर 1963 को जन्मी थी। खूबसूरत थी और मॉडलिंग का शौक था, तो इसी क्षेत्र में अपना करियर बनाया।