विवाद सुलझाने के लिए अटाॅर्नी जनरल हुए सक्रिय लेकिन पीसी करने वाले तीन जज दिल्ली से बाहर गए

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के खिलाफ चार जजों के बगावत के बाद उत्पन्न स्थिति को संभालने के लिए अटाॅर्नी जनरल ने शनिवार को सुबह से ही पहल शुरु कर दी। शुक्रवार को उन्होंने कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि शनिवार तक विवाद का हल निकाल लिया जाएगा। 

अटाॅर्नी जनरल वेणुगोपाल ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों से मुलाकात की। 

उधर, अपने उपर आरोपों को लेकर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा शनिवार को सभी चार जजों से मुलाकात कर सकते है। लेकिन आरोप लगाने वाले चार जजों में से तीन जज शहर से बाहर चले गए हैं। 

इस संबंध में बार एसोसिएशन ने आज शाम चार बजे बैठक बुलाई है। सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने कहा है कि देशवासियों में भ्रम पैदा करना जुडिशियरी के लिए ठीक नहीं है।

उधर, विवाद को सुलझाने के लिए बैक डोर प्रयास भी शुरु हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा को शनिवार सुबह चीफ जस्टिस से मिलने पहुंचे। सीजेआई के आवास के बाहर उनकी कार में देखा गया। बताया जा रहा है कि दोनों की मुलाकात नहीं हो पाई है। 

सूत्रों के जरिए जस्टिस चेल्मेश्वर के दफ्तर से जानकारी मिली है कि वे आज चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा से नहीं मिलेंगे। बता दें कि चार जजों में से तीन जज शहर से बाहर हैं। जस्टिस रंजन गोगोई लेक्चर के लिए कोलकाता गए हुए हैं।

चीफ जस्टिस (सीजेआई) दीपक मिश्रा ने भी इस मामले में अपना पक्ष रखा। सूत्रों के अनुसार उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में सब जज बराबर हैं और स्वतंत्र माने जाते हैं। सभी केसों का सही बंटवारा होता है। 

आपको बता दें कि शुक्रवार सुबह देश में पहली बार न्यायपालिका में असाधारण स्थिति देखी गई। सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जजों ने मीडिया को संबोधित कर चीफ जस्टिस पर कई गंभीर आरोप लगाए।