अलीगढ़ के इस्लामिक स्कूल की किताबों में जाकिर नाईक को बताया जा रहा हीरो

अलीगढ़ः यहां के एक स्कूल में जाकिर नाईक को हीरो बताया जा रहा है। न्यूज चैनलों में खबर दिखाए जाने के बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया। प्रशासन के अधिकारियों ने स्कूल जाकर पूरे मामले की छानबीन की। 

आतंकियों को प्रोत्साहन देने के आरोपी और इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के संस्थापक डॉ जाकिर नाईक को एक स्कूल में इस्लामिक हीरो के रूप में पेश किया जा रहा है।

शहर के इस्लामिक मिशन स्कूल में पहली कक्षा के बच्चों को इल्म-उन-नाफे नाम की जो पुस्तक दी गई है, उसमें नौ हस्तियों के साथ जाकिर नाईक भी है। किताब स्कूल ने ही छापी है। स्कूल प्रबंधन का कहना है कि यह पुस्तक दो साल पहले छापी गई थी। नए सत्र वाली किताबों में जाकिर नाईक का नाम नहीं होगा।

मिशन स्कूल के मालिक डॉ. कुनैन कौसर ही पुस्तक इल्म-उन-नाफे के संकलनकर्ता भी हैं। दावा किया गया है कि इसे पढने से बच्चों का सामान्य ज्ञान बढ़ता है।

पुस्तक के पृष्ठ संख्या 42 में इस्लाम के हीरो दिए गए हैं। इनमें नौ लोगों के चित्र हैं, जिनके नाम नीचे देकर उन्हें पहचानने को कहा गया है। इसी में बीच वाली पंक्ति में डॉ. जाकिर नाईक का फोटो भी है।

इसके साथ शेख अहमद दीदात, मुजफ्फर नगर के मौलाना कलीम सिद्दीकी, पाकिस्तान के मौलाना तारिक जमील व इसरार अहमद, ब्रिटिश नागरिक यूसुफ इस्टेट, अब्दुल्ला ताोरिक, हारुन याहिया, बिलाल फिलिप की तस्वीरें भी हैं।