बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने बनाया राष्ट्रीय मंच, मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन का ऐलान

नई दिल्लीः बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने पार्टी के नेतृत्व के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मंगलवार को उन्होंने राष्‍ट्रीय मंच बनाने की घोषणा कर किसानों के मुद्दे पर आंदोलन करने की घोषणा की। उन्‍होंने कहा कि हम किसानों के मुद्दों को लेकर आंदोलन करेंगे और उसके साथ दूसरे महत्‍वपूर्ण मुद्दों पर सरकार की गलत नीतियों को उजागर करेंगे। 

यशवंत सिन्हा ने कहा कि राष्ट्रमंच का सबसे बड़ा मुद्दा किसानों का होगा। किसानों की समस्याओं का आज कोई हल नहीं निकाला जा रहा है। नोटबंदी और जीएसटी को गलत करार देते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा कि नोटबंदी को आर्थिक सुधार मानता हूं, लेकिन इसे लागू करने का तरीका गलत था। जीएसटी से छोटे उद्योग मर गए। बेरोजगारी का क्या हाल है, भूख और कुपोषण के चलते बच्चों का भविष्य खतरे में है। 

उन्‍होंने कहा कि बताया जाता है कि हमारी सबसे बड़ी उपलब्धि विदेश नीति है, पर डोकलाम को ही देख लीजिए. खबरों को माने तो जो चीन 10 प्रतिशत था वो 90 प्रतिशत हो गया है। अब कोई 56 इंच की छाती को नहीं पूछता।

यशवंत सिन्‍हा के राष्‍ट्रीय मंच में शत्रुघ्न सिन्हा, दिनेश त्रिवेदी (टीएमसी), माजिद मेमन, संजय सिंह (आप), सुरेश मेहता (पूर्व मुख्यमंत्री गुजरात), हरमोहन धवन (पूर्व केंद्रीय मंत्री), सोमपाल शास्त्री (कृषि अर्थशास्त्र), पवन वर्मा (जेडीयू), शाहिद सिद्दीकी, मोहम्मद अदीब, जयंत चैधरी (आरएलडी), उदय नारायण चैधरी (बिहार), नरेंद्र सिंह (बिहार), प्रवीण सिंह (गुजरात के पूर्व मंत्री), आशुतोष (आप) और घनश्याम तिवारी (सपा) शामिल हुए हैं. 

यशवंत सिन्‍हा ने कहा कि सभी को देश की वर्तमान स्थिति पर चिंतित हैं। देश की जनता के लिए एक आंदोलन करने की जरूरत है और हम वैचारिक रूप से एक दूसरे से जुड़े हैं।