अयोध्या विवादः श्रीश्री रविशंकर ने की मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ बैठक, सुझाया FORMULA

नई दिल्लीः अयोध्या विवाद को सुलझाने के लिए कोर्ट से बाहर प्रयास तेज हो गए हैं। विवाद को सुलझाने के लिए आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर प्रयास कर रहे हैं। शुक्रवार को उन्होंने बेंगलुरु में मुस्लिम धर्म गुरुओं के साथ बैठक कर मुद्दे पर चर्चा की। 

जानकारी के अनुसार, इस बैठक में राम मंदिर के निर्माण को लेकर तीन तरह के फार्मूले सुझाए गए हैं। मुख्य आधार विवादित जगह पर ही राम मंदिर बनाने पर टिका है। लेकिन मस्जिद बनाने के लिए अलग अलग जगहें बताई गई हैं।

सूत्रों का कहना है कि फॉर्मूले को लेकर अभी कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है लेकिन बातचीत जारी रखने पर राजीनामा हुआ है। होली के बाद और रामनवमी के पहले धर्मगुरू अयोध्या जाकर इस फॉर्मूले पर लोगों से बात करेंगे। इस बैठक में सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जफर फारुकी भी शामिल हुए। जफर फारुकी राममंदिर मामले के पक्षकार भी हैं।

शुक्रवार को श्रीश्री रविशंकर ने एक Formula सुझाया है। इसके तहत मुस्लिम फैजाबाद हाईवे पर मस्जिद बनाएं। विवादित जमीन पर मंदिर बनाएं। 

सुब्रहमण्यम स्वामी ने भी सुझाया फाॅम्यूला। उनके अनुसार, विवादित जगह पर ही राम मंदिर बनाया जाए। सरयू नदी के दूसरी तरफ मुस्लिम मस्जिद बनाई जाए। 

राम मंदिर पर जस्टिस पुलक बसु के फॉर्मूला पर अमल किया जाए। जो हिस्सा रामलला विराजमान को मिला है उसी जमीन पर राम मंदिर बने। बाकी जमीन निर्मोही अखाड़ा और सुन्ना वक्फ बोर्ड के पास रहे। मुस्लिम पक्ष जमीन पर कोई निर्माण ना करे। मुस्लिम पक्ष 200 मीटर दूर यूसुफ की आरा मशीन की जमीन पर मस्जिद बनाए।

सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को एक बार फिर अयोध्या विवाद में नई तारीख दे दी गई है। पिछले साल 5 दिसंबर की सुनवाई में 8 फरवरी की तारीख दी गई थी। अब 8 फरवरी की सुनवाई में 14 मार्च की तारीख मिली है। अब अगली सुनवाई 14 मार्च को होगी। इसके बाद रोजाना सुनवाई होने की उम्मीद है।