सेना के कैंप पर आतंकी हमला, जेसीओ समेत दो जवान शहीद, दो घायल, पैरा कमांडो ने लिया मोर्चा

नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर में शनिवार तड़के जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने जम्मू शहर के सुंजवान में स्थित सेना के एक कैंप पर हमला कर दिया, जिसमें सेना के तीन कर्मी और एक सैन्यकर्मी की बेटी घायल हो गई।

जिसके बाद इस हमले में गोली लगने से घायल हुए सेना के जूनियर कमीशंड ऑफिसर शहीद हो गए। शहीद जेसीओ की पहचान मदन लाल के रुप में हुई है। हमले में जवान मोहम्‍मद अशरफ शहीद हो गए। 

आतंकवादियों ने सुंजवान सैन्य शिविर में घुसने के लिए ग्रेनेड फेंके और स्वचालित हथियारों से हमला किया है। यह पता नहीं चल पा रहा है कि आतंकियों की संख्या कितनी है। बताया जा रहा है कि सुंजवान कैंप के रिहायशी इलाके में 3 से 5 आतंकी एक क्‍वार्टर में छिपे हुए हैं।

सेना के जवानों ने पूरे इलाके को घेर लिया है। सेना के कंमाडो को उतारा गया है। आतंकियों का मकसद सैनिकों को बंधक बनाना है। आतंकियों की तलाश में सेना ने अपना ऑपरेशन तेज कर दिया है। आतंकियों की तलाश में पैरा कमांडो जुटे हुए हैं। 

ताजा जानकारी के मुताबिक, सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से बात की है और उन्‍हें आतंकी हमले के बारे में जानकारी दी है।

शनिवार तड़के जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एसपी वैद्य ने बताया कि आतंकवादी सुंजवान सैन्य शिविर में पीछे की ओर बने आवासीय क्वार्टर की ओर से घुसे। अधिकारियों ने बताया कि कम से कम चार लोग इस दौरान हुई फायरिंग में घायल हुए हैं। इनमें तीन सैन्यकर्मी हैं, जबकि एक सैन्यकर्मी की बेटी है। 

इस घटना के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्‍मू-कश्‍मीर के पुलिस महानिदेशक से बात की, जिसके बाद डीजीपी ने उन्‍हें आतंकी हमले के बाबत जानकारी दी। गृह मंत्रालय पर इस पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए है। आतंकी हमले के बाद सेना के जवानों ने मोर्चा संभाला हुआ है और जवाबी फायरिंग की जा रही है। फिलहाल दोनों तरफ से फायरिंग जारी है। हमले के मद्देजनर कैंप के 500 मीटर के दायरे में मौजूद स्‍कूलों को बंद करने का निर्देश जिला प्रशासन की तरफ से दिया गया है।