90 प्रतिशत पुराने चेहरों को ही नई कमेटी में जगह, बीएसपी छोड़ने वाले हलवासिया सीधे बने उपाध्यक्ष

लखनऊ. करीब 7 माह बाद बीजेपी ने उत्तर प्रदेश के लिए नई कमेटी का ऐलान कर दिया है। पिछले साल अगस्त में महेंद्र पांडेय को पार्टी प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई थी। तभी से नई कमेटी का इंतजार हो रहा था। 

यूपी बीजेपी की नई टीम में दो चार चेहरों को छोड़ कर सब पुराने नाम हैं। 15 नेताओं को प्रदेश उपाध्यक्ष और 6 नेताओं को महामंत्री बनाया गया हैं। पश्चिम से पूर्व केन्द्रीय मंत्री संजीव बालियान को उपाध्यक्ष बनाया गया है। जबकि इसी पद पर रहे राजवीर सिंह की छुट्टी कर दी गई है। राजवीर एटा से सांसद हैं और यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह के बेटे है। सबसे चैंकाने वाला नाम दयाशंकर सिंह का है। उन्हें फिर उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है। वे मंत्री स्वाति सिंह के पति है और मायावती के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग करने पर उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। 

लखनऊ के कारोबारी और राजनाथ सिंह के करीबी इस नेता हलवासिया को उपाध्यक्ष बनाया गया है. बीएसपी छोड़ कर आए हलवासिया को पहली बार में ही इतना बड़ा पद मिलने से सब हैरान हैं। केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह को फिर से महामंत्री बनाया गया हैं। वे नोएडा से पार्टी के एमएलए भी हैं।

स्वाति सिंह की जगह दर्शना सिंह को महिला मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया है। वे चंदौली की रहने वाली हैं। यहीं से खुद महेन्द्र पांडे यूपी बीजेपी के अध्यक्ष हैं।

सुब्रत पाठक के बदले सुभाष यादव को पार्टी के युवा मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया है। पाठक ने कन्नौज लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल को कड़ी टक्कर दी थी। सीतापुर से सांसद राजेश वर्मा को ओबीसी मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया है। अशोक कटारिया और विजयबहादुर पाठक की फिर से पार्टी के महामंत्री पद पर तैनाती हुई है। कैराना से सांसद हुकुम सिंह की मौत के बाद गूर्जर नेता नवाब सिंह नागर उपाध्यक्ष बनाए गए हैं।

हाल में ही मेरठ से मेयर का चुनाव हार चुकीं अनिता कर्दम पर पार्टी की मेहरबानी हुई। उन्हें प्रदेश उपाध्यक्ष की कुर्सी मिल गई है। आगरा की मेयर रहीं अंजुला माहौर मंत्री बनाई गईं हैं। वाराणसी के क्षेत्रीय अध्यक्ष रहे एमएलसी लक्ष्मण आचार्य को उपाध्यक्ष बना दिया गया है। नई कमेटी में यादव नेताओं की संख्या बढ़ गई है। वाराणसी के शिवनाथ यादव उपाध्यक्ष बनाये गए हैं। महामंत्री और उपाध्यक्ष के एक एक पद खाली रखे गए हैं। संगठन में पदाधिकारी रहे उन सभी नेताओं की छुट्टी हो गई है जो योगी सरकार में मंत्री बन गए हैं।

यूपी बीजेपी की नई कमेटी में 90 प्रतिशत चेहरे पुराने ही हैं। प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र पांडेय का कहना है कि संगठन मंत्री सुनील बंसल के साथ मिलकर नई कमेटी बनाई गई है।