अबतक के सबसे उंचे शिखर पर विदेशी मुद्रा भंडार, एक साल की जरुरत पूरी हो सकती है

ई दिल्लीः मोदी सरकार के कार्यकाल में देश का विदेशी मुद्रा भंडार तेजी से बढ़ते हुए अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। 2 फरवरी को खत्म हफ्ते में देश का विदेशी मुद्रा भंडार रेकॉर्ड 421.91 बिलियन डॉलर (27.42 लाख करोड़ रुपये) तक पहुंच गया है।

इसका मतलब साफ कि दुनिया में कोई भी आर्थिक संकट आने पर भारत कड़ा मुकाबला कर सकता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के पास अपनी जरुरतों को पूरा करने के लिए एक साल का मुद्रा भंडार है। 

दो फरवरी को समाप्त सप्ताह में 412 करोड़ डॉलर (26,780 करोड़ रुपये) बढ़कर 42,191 करोड़ डॉलर (27.42 लाख करोड़ रुपये) के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है।

इससे पहले हफ्ते में विदेशी मुद्रा भंडार तीन अरब डॉलर बढ़कर 41,789 करोड़ डॉलर (27.16 लाख करोड़ रुपये) हो गया था। 

डेवलपमेंट बैंक ऑफ सिंगापुर (डीबीएस) ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों के कारण भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जाएगा।

उसने कहा कि यदि सरकार की ओर से कोई गतिरोध पैदा करने वाला फैसला नहीं हुआ तो लगातार नए स्तर को छुएगा। इसका फायदा रुपये की बढ़त में देखने को मिलेगा। पिछले साल रुपये ने छह फीसदी से ज्यादा की बढ़त हासिल की थी।