उत्तराखंड सरकार ने नहीं दी अन्ना की रैलियों की परमिशन, समर्थक बोले, देंगे गिरफ्तारी

श्रीनगरः उत्तरारखंड मे सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे की प्रस्तावित रैलियों को उत्तराखण्ड सरकार ने परमिशन नहीं दी है, जिससे अन्ना के समर्थकों में जबरदस्त विरोध देखा जा रहा है। 

आपको बता दें कि एवीएम मशीनो में पार्टी सिंबल के बदले प्रत्याशी की फोटो लगाने के लिए समाजसेवी अन्ना हजारे राष्टव्यापी आन्दोलन करने जा रहे हैं।

इस सम्बन्ध में अन्ना हजारे की उत्तराखण्ड में भी दो रैलियां प्रस्तावित है। 13 फरवरी को अन्ना ऋषिकेश और 14 फरवरी को श्रीनगर के गोला बाजार मे अन्ना हजारे जनता को सम्बोधित करने वाले थे लेकिन सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी है। अन्ना हजारे की रैलियों की इजाजत नहीं देने पर राज्य सरकार की आलोचना हो रही है।

अन्ना समर्थकों का कहना है कि जब से अन्ना ने पीएम मोदी की किसान नीतियों के खिलाफ आंदोलन का ऐलान किया है, तभी से उन राज्यों में जहां बीजेपी की सरकारें हैं, वहां अन्ना की रैलियों को इजाजत नहीं दी जा रही है।

लेकिन अन्ना समर्थकों ने राज्य सरकार के फैसले के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

टीम अन्ना के राष्टीय कनविनर भोपाल सिंह चैधरी का कहना है कि अगर उत्तराखण्ड सरकार अन्ना को प्रमिशन नहीं भी देगी तो अन्ना और उनसे जुडे़ सारे लोग सामूहिक गिरफतारी देंगे।