अयोध्या (NNI Live) :- राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंच से अपने भाषण की शुरुआत जय जय श्रीराम के साथ की। इस दौरान वह बेहद उल्लास और भावुक नजर आए। उन्होंने कहा कि अवधपुरी की धरती समृद्धशाली बनेगी। हम सबके लिए आज उमंग, उत्साह और भावनात्मक दिन है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  के साथ भूमि पूजन समारोह के मंच पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास विराजमान हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्षों के संघर्ष के बाद आज वह पल आया है। जो सपना हम सब ने देखा वह पूरा हो रहा है। यह पल हमारे उमंग और उत्साह का भी है। मैं इस अवसर सभी का हृदय से स्वगत करता हूं। आज पांच शताब्दियों को संकल्प पूरा हो रहा है। मैं प्रधानमंत्री का भगवान श्रीराम की पावन धरा पर पांच शताब्दी की बहुप्रतीक्षित, लंबे संघर्ष और साधना की सिद्धि की स्मृति के अवसर पर भूमि पूजन और कार्य शुभारंभ के अवसर पर सात पवित्र पुरियों में से एक अवध पुरी में स्वागत करता हूं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस शुभ घड़ी की प्रतीक्षा में हमारी कई पीढ़ियां चली गईं। उन्होंने बलिदान दिया। उनकी इच्छा थी राम मन्दिर​ निर्माण को अपनी आंखों के साथ देख सकें। प्रधानमंत्री की सूझबूझ और दूरदर्शिता के कारण आज ये मौका देखने को मिला है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में आज गौरवान्वित होने का अवसर मिला। राम मंदिर का सपना सच हो रहा है।पांच सौ वर्षों का लंबा और कड़ा संघर्ष अब लोकतांत्रिक और संविधान सम्मत तरीके से संपन्न हुआ।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज हम सब गौरवान्वित हैं। दीपोत्सव के साथ जो कार्यक्रम प्रारंभ हुआ था आज प्रधानमंत्री की मौजूदगी में मंदिर निर्माण के पूजन कार्यक्रम से हम लोगों को देखने का अवसर प्राप्त हुआ है। वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सीमित संख्या में अतिथियों को निमंत्रण दिया जा सका।