लखनऊ (NNI Live) :- उत्तर प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र भाजपा विधायक जन्मेजय सिंह के निधन के कारण शोक प्रस्ताव के बाद शनिवार पूर्वाह्न 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। विधायक के निधन के चलते समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार का विरोध प्रदर्शन स्थगित कर दिया। योगी सरकार भी अब सदन में कल करीब डेढ़ दर्जन विधेयकों को पेश करेगी।

दरअसल देवरिया जिले की सदर सीट से भाजपा विधायक जन्मेजय सिंह का गुरुवार देर रात राजधानी लखनऊ में हार्ट अटैक से निधन हो गया। वह 75 वर्ष के थे। उनके निधन के चलते विधानसभा का मानसून सत्र आज दूसरे दिन भी स्थगित करना पड़ा। सत्र की शुरुआत गुरुवार को हुई थी। पहले दिन भी दो केबिनेट मंत्री समेत चार विधायकों और 20 पूर्व विधायकों को श्रद्धांजलि देने के बाद सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई थी।

सदन की कार्यवाही आज दूसरे दिन जैसे ही प्रारम्भ हुई नेता सदन व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिवंगत विधायक जन्मेजय सिंह के निधन पर शोक प्रस्ताव पेश किये। इसके बाद समाजवादी पार्टी (सपा) के विधायकों की तरफ से ललई यादव, बसपा दल के नेता लालजी वर्मा, कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा मोना, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के ओमप्रकाश राजभर और अपना दल के नील रतन पटेल ने भी दिवंगत विधायक के प्रति शोक संवेदना व्यक्त करते हुए अपने-अपने दल की तरफ से उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने भी श्रद्धांजलि देते हुए दिवंगत विधायक जन्मेजय सिंह को याद किया। अंत में दिवंगत आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन धारण किया गया। फिर विधानसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही को शनिवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

सपा ने स्थगित किया विरोध प्रदर्शन

प्रदेश की प्रमुख विपक्षी समाजवादी पार्टी सत्र के दूसरे दिन भी विरोध प्रदर्शन करने वाली थी। सपा विधायक आज सरकार की नीतियों के विरोध में पार्टी कार्यालय से विधानसभा तक साइकिल रैली निकालने वाले थे। लेकिन विधायक जन्मेजय सिंह के निधन के कारण सपा ने यह विरोध प्रदर्शन टाल दिया। पार्टी मुखिया अखिलेश यादव ने ट्वीट कर सुबह ही जानकारी दी कि भाजपा विधायक जन्मेजय सिंह के निधन पर दुःख जताने के साथ आज सरकार के खिलाफ होने वाला अपनी पार्टी का विरोध प्रदर्शन टाल दिया है। सपा विधायकों ने कल भी सत्र प्रारम्भ होने से पहले विधान भवन स्थित चैधरी चरण सिंह की प्रतिमा के सामने धरना देकर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था।

सरकार अब शनिवार को पेश करेगी करीब डेढ़ दर्जन विधेयक

दरअसल प्रदेश की योगी सरकार ने करीब डेढ़ दर्जन विधेयक पारित कराने के लिए ही कोरोना काल में विधान मंडल का मानसून सत्र आहूत कराया है। इन विधेयकों को सरकार सदन में आज पेश करने वाली थी, लेकिन विधायक जन्मेजय सिंह के निधन के कारण सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। सरकार अब इन विधेयकों को कल सदन में प्रस्तुत कर पारित कराना चाहेगी।

ये हैं विधेयक

1- उप्र लोक एवं निजी सम्पत्ति क्षति वसूली विधेयक 2020

2- उप्र आकस्मिकता निधि (संशोधन) विधेयक 2020

3- उप्र राजकोषीय उत्तरदायित्व एवं बजट प्रबंधन (द्वितीय संशोधन) विधेयक 2020

4- उप्र राज्य विधानमंडल सदस्यों की उपलब्धियों और पेंशन (संशोधन) विधेयक 2020

5- उप्र औद्योगिक विवाद (संशोधन) विधेयक 2020

6- उप्र कारखाना विवाद (संशोधन) विधेयक 2020

7- उप्र औद्योगिक क्षेत्र विकास (संशोधन) विधेयक 2020

8-उप्र कारागार अधिनियम 1894 में (संशोधन) विधेयक 2020

9- उप्र मूल्य संवर्धित कर संशोधन विधेयक 2020

10- उप्र मंत्री वेतन भत्ता और प्रकीर्ण उपबंध (संशोधन) विधेयक 2020

11- उप्र कतिपय श्रम विधियों से अस्थाई छूट (संशोधन) विधेयक 2020

12- उप्र कृषि उत्पादन मंडी (संशोधन) विधेयक 2020

13- उप्र लोक स्वास्थ्य एवं महामारी रोग नियंत्रण विधेयक 2020

14- उत्तर प्रदेश गोवध निवारण (संशोधन) विधेयक 2020

15- उप्र स्ववित्तपोषित स्वतंत्र विद्यालय (शुल्क विनियमन, संशोधन) विधेयक 2020

16- उत्तर प्रदेश कारागार (संशोधन) विधेयक 2020

17- उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल अध्यादेश 2020