लखनऊ (NNI Live) :- उत्तर प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र में तीसरे दिन शनिवार को विपक्ष के हंगामे के बीच योगी सरकार ने 17 विधेयक पेश किए। हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही 15 मिनट के लिए स्थगित भी करनी पड़ी।

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज पूर्वाह्न 11 बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरु हुई। विपक्ष के सदस्य कोरोना संक्रमण और कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा करने लगे। वे सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। इस दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस के विधायक शोर मचाते वेल में भी आ गये।

विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने यद्यपि हंगामा कर रहे विधायकों को समझाया और उन्हें कोरोना के चलते शारीरिक दूरी के प्रोटोकाल का याद भी दिलाया लेकिन विपक्ष के सदस्य नहीं माने। ऐसे में अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही को 15 मिनट के लिए स्थगित कर दिया।

सदन की कार्यवाही जब दोबारा प्रारम्भ हुई तो विपक्ष के सदस्य फिर हंगामा करने लगे। इस पर संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना ने आपत्ति की। फिर हंगामे के बीच ही सरकार की तरफ से 17 विधेयक सदन के पटल पर रखे गए।

गौरतलब है कि विधानसभा का मानसून सत्र गुरुवार को शुरु हुआ। लेकिन प्रथम दो दिन दिवंगत सदस्यों को श्रऋांजलि देकर सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई। आज शनिवार को छुट्टी के दिन भी सदन की कार्यवाही चल रही है। लोगों का कहना है कि ऐसा लंबे समय बाद हो रहा है। आम तौर पर शनिवार और रविवार को सार्वजनिक अवकाश के कारण सदन की बैठकें नहीं होती है लेकिन कभी-कभी विशेष परिस्थिति में विधानसभा अध्यक्ष बैठक बुला सकते हैं। करीब एक दशक पहले केसरी नाथ त्रिपाठी जब विधानसभा अध्यक्ष थे, उस समय उन्होंने भी कुछ मौकों पर शनिवार को सदन बुलाया था।