लखनऊ (NNI Live) :- उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल  कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीएमआरसीएल) लखनऊ में मेट्रो ट्रेन का संचालन शुरू होने पर नए कर्मचारियों की चरणबद्ध तरीके नियुक्ति करेगा। फिलहाल कोरोना के बढ़ते प्रकोप से लखनऊ में  मेट्रो ट्रेन का संचालन नहीं किया जा रहा है। इसलिए यूपीएमआरसीएल खर्चों को और अधिक बढ़ाना नहीं चाहता है।

यूपीएमआरसीएल के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने गुरुवार को बताया कि राजधानी लखनऊ में अभी मेट्रो ट्रेन का संचालन नहीं किया जा रहा है। इसलिए जरूरत के अनुसार नए कर्मचारियों की  नियुक्ति करने पर विचार चल रहा है ।

उन्होंने बताया कि सभी नए कर्मचारियों को नियुक्ति दी जाएगी। लखनऊ में कोरोना का प्रकोप कुछ कम पड़े तो इस पर आगे काम किया जाएगा। यूपीएमआरसीएल के पास कानपुर मेट्रो को शुरू करने के लिए अभी करीब डेढ़ साल से अधिक का समय है। कानपुर मेट्रो को शुरू करने का लक्ष्य मार्च 2022 है। ऐसे में करोना जैसी विकट स्थिति में जब लखनऊ में मेट्रो ट्रेन का संचालन नहीं हो रहा है, तो इतने पहले नए भर्ती किए गए कर्मचारियों को नियुक्ति देने से यूपीएमआरसीएल के ऊपर खर्चों का भार और बढ़ जाएगा। इसलिए यूपीएमआरसीएल नए भर्ती किए गए करीब 180 कर्मचारियों को चरणबद्ध तरीके से नियुक्ति देगा। इससे वेतन का खर्चा भी बचेगा और काम भी चलता रहेगा।

दरअसल वर्तमान समय में यूपीएमआरसीएल करीब 900 स्थाई कर्मचारियों को हर महीने वेतन दे रहा है। मेट्रो ट्रेन का संचालन नहीं होने से स्टेशनों पर खानपान के स्टाॅल बंद हैं। इसके अलावा ट्रेन नहीं चलने से विज्ञापन एजेंसियों ने विज्ञापन देना भी बंद कर दिया है। इसलिए यूपीएमआरसीएल के सामने अभी अपने खर्चों को सीमित करने के अलावा दूसरा विकल्प नहीं है। फिलहाल यूपीएमआरसीएल लखनऊ में मेट्रो ट्रेन के संचालन की तैयारियों में लगा हुआ है। उसे केंद्र और राज्य सरकार की नई गाइड लाइन का इंतजार है।