नई दिल्ली (NNI Live) :- भारतीय खेलों के इतिहास में 29 अगस्त का दिन काफी महत्वपूर्ण है,क्योकि इसी दिन हॉकी के जादूगर महान मेजर ध्यानचंद का जन्म हुआ था,जिनके जन्मदिवस को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसके अलावा भी आज का दिन कई ऐतिहासिक खेल घटनाओं के लिए जाना जाता है।

आइए सिलसिलेवार खेल की इन घटनाओं पर एक नजर डालते हैं।

29 अगस्त वर्ष 1844 : मोंट्रियल में पहला श्वेत-भारतीय लैक्रोस गेम में भारतीयों ने जीत हासिल की।

क्या है लैक्रोस गेम :- लैक्रोस एक टीम का खेल है जो लैक्रोस स्टिक और लैक्रोस बॉल के साथ खेला जाता है। खिलाड़ी लक्ष्य में गेंद को ले जाने, पकड़ने, पकड़ने और शूट करने के लिए लैक्रोस स्टिक के सिर का उपयोग करते हैं। यह खेल फेडरेशन ऑफ इंटरनेशनल लैक्रोस द्वारा शासित है; सबसे प्रमुख अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा विश्व लैक्रोस चैम्पियनशिप है, जिसका संयुक्त राज्य अमेरिका का प्रभुत्व रहा है।

29 अगस्त वर्ष 1904 : अमेरिका के सेंट लुई में तीसरे ओलंपिक खेलों की शुरुआत।

29 अगस्त वर्ष 1905 :- इलाहाबाद में हॉकी के महान खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद का जन्म हुआ। इन्होंने तीन ओलंपिक खेलों में हिस्सा लिया और टीम को स्वर्ण दिलाने में अहम भूमिका निभाई। 29 अगस्त वर्ष 1998 – पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित।

29 अगस्त वर्ष 2004 :-एथेंस ओलंपिक का समापन हुआ था। बता दें कि 2004 के ओलंपिक में ही पूर्व खेलमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भारत की ओर से एकमात्र पदक जीतने में सफलता पाई थी। उन्होंने रजत पदक पर निशाना साधा था। वर्ष 2004 में ही राज्यवर्धन सिंह राठौर को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

29 अगस्त वर्ष 2018 : जकार्ता एशियाई खेलों में भारत को दोहरी सफलता। अरपिंदर सिंह ने पुरूषों की त्रिकूद में और स्वप्ना बर्मन ने महिलाओं की हैप्टथलॉन स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीते।