मुंबई (NNILive) :-एक्टर सोनू सूद ने कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों की मदद की थी। उस दिन के बाद से लोगों की नजरों में वो मसीहा बन गए हैं। कैसी भी परेशानी हो चाहे कितनी भी बड़ी तकलीफ हो, लेकिन सोनू सूद सभी लोगों की दिल खोलकर मदद करते हुए नजर आएं थे। देश में जब यातायात के सभी साधनों को बंद कर दिया गया। तब सोनू सूद ने अपने गांव-शहर को लौट रहे प्रवासी मजदूरों की काफी मदद की थी। जिसके कारण उन्हें ‘मजदूरों का मसीहा’ भी कहा गया।

दुर्गा पूजा पंडाल में सोनू सूद का स्टैच्यू

सोनू सूद ने जिस तरह कोरोना काल में लोगों की परेशानी सुनकर उन्हें उनके जगह पर पहुचाया उनके इसी बेहतरीन काम को देखते हुए ट्रिब्यूट देने के लिए कोलकाता के एक दुर्गा पूजा पंडाल में सोनू सूद का स्टैच्यू लगाया गया है। उस पंडाल की थीम ही प्रवासी मजदूरों के इर्द-गिर्द रखी गई है।

बता दें कि लॉकडाउन के बाद भी अमिनेता सोनू सूद गरीबों की मदद करते देखे गए। सोशल मीडिया पर एक गरीब किसान की बेटी का हल खींचते वीडियो सामने आने के बाद सोनू सूद ने एक दिन के अंदर ही उन तक नया ट्रैक्टर पहुंचा दिया था। वहीं लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया के माध्यम से मदद मांगने वालों को भी सोनू सूद ने उनके घर पहुंचाया था।