कुलगाम (NNI Live) :- जम्मू-कश्मीर में भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले थम नहीं रहे हैं।दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम में गुरुवार रात भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला महासचिव फिदा हुसैन समेत 3 नेताओं की आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में भाजपा के तीन नेताओं की हत्या किये जाने की निंदा की है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वे जम्मू-कश्मीर में उत्कृष्ट कार्य करने वाले तेज युवा थे। दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवारों के साथ हैं। उनकी आत्मा को शांति मिले।

भाजपा युवा मोर्चा के महासचिव फिदा हुसैन अपने दो साथियों उमर राशिद बेग और उमर हन्नान के साथ रात 8 बजे के करीब घर की तरफ जा रहे थे। रास्ते में वाईके पोरा इलाके में घात लगाकर बैठे आतंकियों ने उन पर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। हमला करने के बाद आतंकी फरार हो गए। भाजपा युवा मोर्चा के महासचिव फिदा हुसैन ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। घायल भाजपा कार्यकर्ताओं उमर राशिद बेग और उमर हन्नान को अस्पताल भेजा गया लेकिन उन्हें भी डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

कुलगाम पुलिस को गुरुवार रात 8 बजे भाजपा के तीन नेताओं पर आतंकी हमले की सूचना मिली। इसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे। प्रारंभिक जांच में पता चला कि आतंकवादियों ने भाजपा युवा मोर्चा के महासचिव फिदा हुसैन समेत तीन कार्यकर्ताओं पर गोली चलाई जिनमें फिदा हुसैन ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। उमर हज्जाम और वसीम अहमद को अस्पताल भेजा गया लेकिन उन्हें भी डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। हमले के बाद पूरे इलाके में सनसनी मच गई है। पुलिस और सेना ने पूरे इलाके को घेर कर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। पुलिस सेना के साथ मिलकर इलाके के एक-एक घर की तलाशी ले रही है। बताया गया है कि आतंकी एक वाहन पर सवार होकर आए थे। हमला करने के बाद मौके से भाग गए।

जम्मू-कश्मीर में नहीं थम रहीं भाजपा नेताओं की हत्याएं

जम्मू-कश्मीर में लगातार भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं पर हमले हो रहे हैं। 8 जुलाई में बांदीपोरा में आतंकियों ने भाजपा के नेता वसीम बारी, उनके पिता और भाई की हत्या की थी। भाजपा नेता अपने पिता और भाई के साथ दुकान पर थे, तभी आतंकवादियों ने उन पर गोलियां चलाई। 7 अगस्त को दक्षिण कश्मीर के कुलगाम में आतंकवादियों ने भाजपा नेता सज्जाद अहमद की गोली मारकर हत्या कर दी थी। दस अगस्त को बडगाम में बीजेपी नेता अब्दुल हमीद नजर की घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सितम्बर में मध्य कश्मीर के बडगाम जिले में भी एक भाजपा कार्यकर्ता को गोली मार दी गई थी।

इसी तरह बडगाम के दलवाश गांव में खग बडगाम के बीडीसी अध्यक्ष और भाजपा के सरपंच भूपिंदर सिंह को उनके घर में घुसकर गोली मारी गई। इन दोनों हत्याओं की जिम्मेदारी आतंकी संगठन टीआरएफ ने ली है। इसी महीने की चार तारीख को काजीगुंड के ही अखरान इलाके में भाजपा सरपंच आरिफ अहमद को आतंकियों ने मीर बाजार में गोली मार दी थी। सात अक्टूबर को गांदरबल इलाके में आतंकियों ने बीजेपी नेता गुलाम कादिर के घर पर हमला किया था। नेता तो बच गए थे, लेकिन उनका पीएसओ अल्ताफ हुसैन शहीद हो गया था। एक आतंकी भी मुठभेड़ में मारा गया था।