आईसीएमआर व आईएनवी के साथ मिलकर भारत बायोटेक ने विकसित किया है वैक्सीन

नई दिल्ली :- भारत में तैयार किए जा रहे कोरोना वैक्सीन कैंडिडेट का मानव परीक्षण सात जुलाई से शुरू होने जा रहा है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद(आईसीएमआर) ने वैक्सीन बनाने के काम में जुटे सभी स्टेकहोल्डर को चिट्ठी लिखकर परीक्षण का काम प्राथमिकता से 15 अगस्त तक पूरा करने को कहा है। माना जा रहा है कि 15 अगस्त को स्वदेश में बनी कोरोना वैक्सीन बीबीवी152कोविड  लॉंच की जा सकती है। आईसीएमआर द्वारा लिखी चिट्ठी में साफ कहा कि वैक्सीन को बनाने में जुटे सभी कैंडिडेट इसे प्राथमिकता मानते हुए 15 अगस्त से पहले परीक्षण पूरा करें। परीक्षण सफल रहने के बाद इसे 15 अगस्त तक भारत में लॉंच किया जा सकता है।

वैक्सीन के परीक्षण के लिए दवा नियामक सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) और स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने 30 जून को ही इस स्वदेशी वैक्सीन के पहले और दूसरे चरण के मानव क्लीनिकल परीक्षण की मंजूरी दे दी है। भारत बायोटेक ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (आईएनवी) के साथ मिलकर इस वैक्सीन कैंडिडेट कोवैक्सीन का विकास किया है। देश में 12 वैक्सीन कैंडिडेट को बनाने की दिशा में काम चल रहा है।