नई दिल्ली :- आषाढ़ पूर्णिमा के अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को दिल्ली से अंतरराष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ (आईबीसी) द्वारा आयोजित समारोह का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा, ‘भारत को धम्म की उत्पत्ति की भूमि होने पर गर्व है। यह भारत से उत्पन्न होकर पड़ोसी क्षेत्रों में फैला। वहां की नई उपजाऊ मिट्टी और नई जलवायु में यह काफी हद तक बढ़ा।’

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘आज से लगभग 2,500 साल पहले आषाढ़ पूर्णिमा पर, पहली बार बुद्धि शब्द बोला गया था। आत्मज्ञान प्राप्त करने पर, बुद्ध ने वर्णन से परे एक राज्य में पांच हफ्ते बिताए। फिर उन्होंने उन लोगों के साथ ज्ञान साझा करना शुरू कर दिया, जो उन्होंने खोजे थे। भारत के पूर्वी हिस्से में प्राचीन शहर वाराणसी के पास सारनाथ में हिरणों के पार्क में बुद्ध ने अपने पांच मूल शिष्यों को धम्म सिखाया था। यह मानव जाति के इतिहास में एक अनूठा अवसर था।’

उन्होंने कहा कि भारत को धम्म की उत्पत्ति की भूमि होने पर गर्व है। यह भारत से था कि और फिर यह पड़ोसी क्षेत्रों में फैलने लगा। वहां नई उपजाऊ मिट्टी और नई जलवायु में यह व्यवस्थित रूप से बढ़ता गया।

कोविंद ने कहा कि आज के दिन को गुरु पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू और जैन भी इसे अपने आध्यात्मिक गुरु के प्रति श्रद्धा के प्रतीक के रूप में मनाते हैं। यह दिन हठधर्मिता के बिना भारत की शाश्वत खोज के लिए एक अटूट कड़ी है। उन्होंने कहा, ‘मैं राष्ट्रपति भवन में ब्रह्मांड के कल्याण के लिए हमारी सभ्यता की यात्रा के भाग के रूप में आषाढ़ पूर्णिमा समारोह की मेजबानी करने पर खुश हूं। आज हम एक ऐसी महामारी के बीच में हैं, जिसने पूरी मानवता को अभिभूत कर दिया है। शायद दुनिया का कोई हिस्सा इस आपदा से अछूता नहीं है जो हर व्यक्ति पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रही है। हमें कुछ अनुशासन का पालन करना होगा और भौतिक दूरी बनाए रखनी होगी।’

राष्ट्रपति ने कहा कि आधुनिक समय में दो असाधारण महान भारतीयों- महात्मा गांधी और बाबासाहब आंबेडकर ने बुद्ध के शब्दों में प्रेरणा पाई और राष्ट्र के भाग्य को आकार दिया। आज महामारी दुनियाभर में मानव जीवन और अर्थव्यवस्था को तबाह कर रही है। ऐसे समय में बुद्ध का संदेश प्रकाश पुंज की तरह काम कर रहा है। उन्होंने लोगों को खुशी हासिल करने के लिए लालच, घृणा, हिंसा, ईर्ष्या और कई अन्य दोषों से दूर रहने की सलाह दी है।