भोपाल :- मध्य प्रदेश उपचुनाव में 28 सीटों पर काउंटिंग पर नजर रखने के लिए सुबह 9 बजे प्रदेश कार्यालय में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, दिग्विजय सिंह, राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा पहुंच गए थे। कमलनाथ के साथ उनके बेटे एवं सांसद नकुलनाथ भी गए थे। कमलनाथ सभी नेताओं के साथ प्रदेश अध्यक्ष के चैंबर में करीब चार घंटे तक रहे।

इस दौरान वे किसी और से नहीं मिले। तीन राउंड की काउंटिंग पूरी होने के बाद जैसे ही बीजेपी को 20 सीटों पर बढ़त मिली, करीब 1:30 बजे कमलनाथ ने दफ्तर छोड़ दिया। वह अपने निवास चले गए। दिग्विजय और तन्खा वहां मौजूद रहे।

कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव भोपाल में ही हैं, लेकिन वे प्रदेश कार्यालय नहीं गए। मीडिया में उन्होंने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा- उपचुनाव में बिकाऊ नहीं, टिकाऊ चाहिए का कांग्रेस का नारा काम नहीं आया। उन्होंने यह भी कहा कि जो सीटें हाथ से निकलती दिखाई दे रही है, वहां नए सिरे से मेहनत की जाएगी।