लखनऊ/कानपुर :- उत्तर प्रदेश के कानपुर में सीओ समेत आठ पुलिस कर्मियों की बेरहमी से हत्या करने वाला कानपुर का मोस्ट वांटेड विकास दुबे के फरीदाबाद में होने की सूचना मिली है। इस खबर के बाद दुर्दांत की तलाश में पुलिस ने मंगलवार की रात फरीदाबाद के बड़खल चौक पर बने ओयो गेस्ट हाउस में छापेमारी की। यहां विकास दुबे के छुपे होने का पुख्ता इनपुट मिला था। उसके आधार पर फरीदाबाद पुलिस ने छापेमारी की, शातिर व कुख्यात विकास दुबे वहां नहीं मिला। इसके बाद फरीदाबाद पुलिस ने विकास दुबे के एक साथी को गिरफ्तार कर लिया। यह खबर आते ही यूपी एसटीएफ की एक टीम फरीदाबाद रवाना हो गई है।

हरियाणा पुलिस ने की छापेमारी, हुई फायरिंग

दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद में फरीदाबाद में दिल्ली-मथुरा हाईवे के किनारे बड़खल चौक पर एक ओयो गेस्ट हाउस में कानपुर प्रकरण में फरार मास्टर माइंड विकास दुबे अपने एक साथी के साथ छिपे होने की सूचना मिली। इसके बाद सूचना पर आनन-फानन में छापेमारी की, लेकिन वहां कुछ नहीं मिला।

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि 30 से 35 की संख्या में पुलिस कर्मियों ने सादी वर्दी में वहां पहुंचे थे। कुछ देर वहां ठहरने के बाद पुलिस की टीम वहां से निकल गई। कुछ प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक वहां फायरिंग होने की बात कही जा रही है। मिली जानकारी के आधार पर हरियाणा पुलिस ने छापेमारी की थी।

120 घंटे के ऊपर हो चुके पुलिस की दूर से है विकास दुबे

कानपुर प्रकरण को करीब एक सौ बीस घंटे से ऊपर हो चुके हैं। इस प्रकरण का मास्टर माइंड विकास दुबे को तलाशने में यूपी पुलिस की 40 टीमें और एसटीएफ उसकी खाक छान रही हैं। कानपुर के आस-पास का पूरा इलाका छान मरा गया। यूपी एमपी बॉर्डर, यूपी नेपाल बॉर्डर तक प्रदेश की पुलिस चौबीसों घंटे नजरें गड़ाए हैं और दुर्दांत की सरगर्मी से तलाश में जुटी हैं। कानपुर से निकल कर जाने वाले हर हाईवे, हर सड़क, हर टोल हर नाके को खंगाला जा चुका है। हर टोल की सीसीटीवी तस्वीरें दर्जनों बार देखी जा रही हैं। बंद पड़े होटलों और गेस्ट हाउसों तक की तलाशी ली जा रही है।

इन ​तीन ठिकानों पर छिप सकता है विकास

कुख्यात अपराधी विकास दुबे के दूर-नजदीक हर रिश्तेदार, दोस्त, जान-पहचान वालों के घर तक पुलिस हो आई है लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिल रहा। यूपी पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, फिलहाल तीन ही ऐसे ठिकाने हैं, जहां विकास दुबे के छुपे होने की सबसे ज्यादा उम्मीद है। पहला कानपुर के आसपास ही किसी जानने वाले के घर में, दूसरा नेपाल में और तीसरा मध्य प्रदेश में होने की बात सामने आ रही हैं।

करीबियों ने भी झाड़ रखा है पल्ला

पुलिस के मुताबिक चूंकि कोरोना के बाद से ही लगभग सभी होटल और गेस्ट हाउस बंद हैं, लिहाजा यहां उसके छुपे होने की उम्मीद बेहद कम ही है। इसीलिए सबसे ज्यादा पुख्ता यही है कि वो अपने किसी जानने वाले या गुर्गों के यहां छिपे होने की बात सामने आ रही हैं। हालांकि उसको शरण देने वालों पर भी कठोर कार्रवाई की जायेगी। ऐसे में उससे उसके रिश्तेदार और करीबियों ने भी पल्ला झाड़ रखा है।