बलिया :- भाजपा सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से ईओ मणि मंजरी राय खुदकुशी मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है।

मनियर नगर पंचायत की अधिशासी अधिकारी तीस वर्षीया मणि मंजरी राय छह जुलाई को अपने किराए के फ्लैट में पंखे से लटकती हुई पायी गई थीं। माना जा रहा है कि घटनास्थल पर महिला ईओ द्वारा छोड़े गए सुसाइड नोट में कुछ लोगों पर गलत काम का दबाव बनाए जाने का आरोप लगाया था। इस मामले में मणि मंजरी के परिवार वालों ने मनियर नगर पंचायत के चेयरमैन, एक लिपिक व कंप्यूटर ऑपरेटर समेत पांच लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया था।

वहीं विभिन्न राजनीतिक दलों ने इसे मुद्दा बनाया हुआ है। कई अन्य सामाजिक संगठनों ने भी मणि मंजरी आत्महत्या मामले में बड़ी साजिश की आशंका जताते हुए सीबीआई जांच कराने की मुहिम चलायी हुई है।

मणि मंजरी राय का पैतृक गांव गाजीपुर जिले के भांवरकोल थाने का कानुवान बलिया संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है। बलिया सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त से भी ईओ के परिजनों ने मौखिक रूप से उच्चस्तरीय जांच की मांग की। जिसके बाद सांसद श्री मस्त ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कहा है कि ईओ के परिजनों ने आत्महत्या के पीछे बड़े षडयंत्र का आरोप लगाया है।

उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग किया है कि इस प्रकरण की जांच उच्चस्तरीय कमेटी से कराकर दोषियों को सख्त से सख्त कार्रवाई करें। भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह मस्त के द्वारा इस मामले में पहल किए जाने से मृत ईओ के परिवार वालों को न्याय की आस जगी है।