भोपाल  :- मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार सुबह अपने मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा कर दिया। इसके बाद 25 कैबिनेट मंत्री और 08 राज्‍य मंत्रियों सहित कुल मंत्रीमण्‍डल के 33 सदस्‍यों को उनके विभागों की जिम्‍मेदारी मिल गई है। इनमें से पांच पूर्व से ही कैबिनेट मंत्री के रूप से शिवराज टीम में कार्य कर रहे हैं। शिवराज सरकार में अब मुख्यमंत्री को मिलाकर 34 मंत्री हो गए हैं। नई मंत्रीमण्‍डल व्‍यवस्‍था में सीएम शिवराज ने जनसंपर्क, सामान्य प्रशासन, नर्मदा घाटी विकास, विमानन एवं उन तमाम विभागों को अपने पास रखा है जिन्‍हें अब तक अन्‍य किसी को नहीं सौंपा गया।

सीएम चौहान ने मंत्रिमंडल विस्तार कर इनमें से अधिकांश मंत्रियों के शपथग्रहण लिए जाने के 11वें दिन विभागों का बंटवारा किया है जिनमें से कई पूर्व मंत्रियों के विभागों में परिवर्तन भी किया गया है।  डॉ. नरोत्तम मिश्रा गृह, जेल, संसदीय कार्य और विधि विभाग संभालेंगे। उनसे स्वास्थ्य विभाग लेकर सिंधिया समर्थक डॉ. प्रभुराम चौधरी को दे दिया है। पूरी सूची में ज्‍यादातर सिंधिया समर्थकों को उनकी पसंद के विभाग सीएम आज यहां बांटते हुए दिखे। गोपाल भार्गव लोक निर्माण, कुटीर और ग्रामोद्योग विभाग देखेंगे।  तुलसीराम सिलावट को नई जिम्‍मेदारी में जल संसाधन, मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विभाग सौंपा गया है। गोविंद सिंह को राजस्व, परिवहन विभाग की जिम्‍मेदारी मिली है।  मीना सिंह, आदिम जाति कल्याण, अनुसूचित जाति कल्याण देखेंगी। कमल पटेल किसान कल्याण एवं कृषि विकास के पहले से ही मंत्री हैं।

इसी तरह से वाणिज्यिक कर, वित्त और योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी की जिम्‍मेदारी जगदीश देवड़ा को मिली है। यशोधरा राजे को उनके प्रिय विभाग पूर्व की भांति खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार का जिम्‍मा सौंपा गया है। भूपेंद्र सिंह जो पहले गृहमंत्री रह चुके हैं, नई जिम्‍मेदारी में नगरीय विकास एवं आवास देखेंगे। विजय शाह को वन विभाग दिया गया है।

ऐंदल सिंह कंसाना-लोक स्वास्थ्य, यांत्रिकी, बृजेंद्र प्रताप सिंह-बृजेंद्र प्रताप सिंह, विश्वास सारंग-चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास, इमरती देवी-महिला एवं बाल विकास, महेंद्र सिंह सिसोदिया-पंचायत और ग्रामीण विकास, बिसाहूलाल सिंह-खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, उपभोक्ता संरक्षण, प्रद्युम्न सिंह तोमर-ऊर्जा, प्रेम सिंह पटेल-पशुपालन, सामाजिक न्याय एवं निशक्तजन कल्याण, ओमप्रकाश सकलेचा-सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम और प्रौद्योगिकी, उषा ठाकुर-पर्यटन, संस्कृति और अध्यात्म, अरविंद सिंह भदौरिया-सहकारिता, लोक सेवा प्रबंधन, मोहन यादव-उच्च शिक्षा, हरदीप सिंह डंग-नवीन, एवं नवकरणीय ऊर्जा, पर्यटन, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव-औद्योगिक नीति और निवेश प्रोत्साहन कैबिनेट मंत्री के रूप में सीएम शिवराज के मंत्रीमण्‍डल में कार्य करेंगे।

राज्यमंत्री के रूप में भारत सिंह कुशवाह उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण, स्वतंत्र प्रभार, नर्मदा घाटी विकास, इंदर सिंह परमार स्कूल शिक्षा, स्वतंत्र प्रभार, सामान्य प्रशासन, रामखिलावन पटेल के पास पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण, स्वतंत्र प्रभार, विमुक्त घुमक्कड़ एवं अर्ध घुमक्कड़, जनजातीय कल्याण, स्वतंत्र प्रभार, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, रामकिशोर कांवरे के आयुष, स्वतंत्र प्रभार, जल संसाधन, बृजेंद्र सिंह यादव को लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी, गिर्राज दंडोतिया   किसान कल्याण एवं कृषि विकास तथा सुरेंद्र धाकड़ को लोक निर्माण विभाग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है। राज्‍यमंत्रियों में ओपीएस भदौरिया को नगरीय विकास एवं आवास की जिम्‍मेदारी मिली है।

उल्‍लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने अपने मंत्रिमंडल में 02 जुलाई को 28 मंत्रियों को शामिल किया था। मंत्रिमंडल विस्तार में भाजपा के 16 मंत्रियों में 07 पुराने और 09 नए चेहरे शामिल हुए थे जबकि इसी साल मार्च में कुल 22 विधायकों ने इस्तीफा दिया था, जोकि कांग्रेस से भाजपा में आए हैं। इसी के साथ सीएम शिवराज के चौथे कार्यकाल में उनके सहित अब मंत्रिमंडल में 34 मंत्री हो गए हैं।