लखनऊ (NNI Live) :- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को लोकनिर्माण विभाग की 2,250 करोड़ की लागत वाली विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि विश्व बैंक व एशियन डेवलपमेंट बैंक की सहायता से प्राप्त लोन की मदद से आज लोकार्पित व शिलान्यास की जा रही योजनाओं को एक साथ हम लोग डिजिटल माध्यम से प्रदेश की जनता को समर्पित कर रहे हैं।

1,20,000 किलोमीटर से अधिक की सड़कों को किया गढ्ढा मुक्त

उन्होंने कहा कि 1,20,000 किलोमीटर से अधिक की सड़कों को गढ्ढा मुक्त करने में लोक निर्माण विभाग ने समय सीमा में सफलता प्राप्त की है। पहले उत्तर प्रदेश के बारे में कहा जाता था कि जहां से सड़कों पर गढ्ढे प्रारम्भ हों समझो उत्तर प्रदेश है। हमारे 54 ऐसे मार्ग हैं जो इंटरस्टेट कनेक्टिविटी से जुड़े हुए हैं। इन सभी को फोर-लेन से जोड़ने के लिए भी युद्धस्तर पर लोक निर्माण विभाग ने कार्य प्रारम्भ किया। आज हम गर्व से कह सकते हैं कि जहां से अच्छी सड़कें प्रारम्भ हों, उत्तर प्रदेश की सीमा वहीं से प्रारम्भ मानी जाती है।

सड़क, बिजली, कानून व्यवस्था के साथ सुशसन की नई नजीर पेश की उप्र ने

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश अच्छी सड़कों, अच्छी विद्युत व्यवस्था, अच्छी कानून व्यवस्था के साथ सुशासन की एक नई नजीर प्रस्तुत करता हुआ दिखाई दे रहा है। समयबद्ध ढंग से जनहित में त्वरित निर्णय लेने व जनप्रतिनिधियों की सक्रियता व उनके साथ बेहतर संवाद से यह परिणाम इस रूप में सामने आया है।

सिंगल व टू लेन सड़कों की जगह पर बन रहीं 4 लेन सड़कें

उन्होंने कहा कि एक बड़ी कार्ययोजना को लेकर लोक निर्माण विभाग ने कार्य प्रारम्भ किए हैं। इंटरस्टेट कनेक्टिविटी के बाद प्रत्येक जिला मुख्यालय, तहसील व विकास खंड मुख्यालय को 4 लेन से जोड़ा जा रहा है मगर पहले इसके बारे में कभी कोई सोचता ही नहीं था। लेकिन, आज यह सपना साकार हो रहा है। जहां पहले लोग सिंगल व टू लेन सड़कों की बात करते थे, आज वहां पर 4 लेन सड़कें बन रही हैं। प्रत्येक ग्राम को बेहतर कनेक्टिविटी दी जा रही हैं।

कोरोना संक्रमण काल में भी ​परियोजनाओं पर किया जा रहा काम

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के समय में जब कोविड-19 से पूरी दुनिया प्रभावित है, तब भी विकास की परियोजनाएं, चाहे वह कनेक्टिविटी की हों या पुलों के निर्माण की, निरंतर इन कार्यक्रमों को विभाग आगे बढ़ाने का कार्य कर रहा है।

हम लोगों ने बजट से धनराशि देने में कभी कोई कोताही नहीं की और आवश्यकता पड़ी तो विश्व बैंक, एशियन बैंक, नाबार्ड या अन्य राष्ट्रीयकृत बैंकों से भी ऋण लेकर अच्छी सड़कें जनता को मिलें, इसके लिए प्रयास प्रारम्भ किया है। आज उसी प्रयास का परिणाम, हम सबके सामने इस रूप में आ रहा है कि एक साथ 2,250 करोड़ से अधिक की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास हो रहा है। यह सचमुच प्रदेश के लिए एक उपलब्धि है।

पिछली सरकार ने जनता के धन का किया बंदरबांट

उन्होंने कहा कि आज का यह कार्यक्रम, उपलब्धि का एक छोटा सा हिस्सा है, इससे भी बड़े-बड़े कार्य प्रदेश में किए गए हैं। यह कार्य हमें फील्ड में जाने पर देखने को मिलते हैं। इन कार्यों को जनता के द्वारा अपनी स्वीकृति भी मिलती है। यह बातें सिद्ध करती हैं कि पिछली सरकार ने जनता के धन का बंदरबांट किया, दुरुपयोग किया। मार्च 2017 के बाद जब कार्य प्रारम्भ हुए तो आज यह कार्य जमीन पर भी दिखाई देते हैं। युद्धस्तर पर त्वरित निर्णय करने, कार्यों को मानक की गुणवत्ता के साथ आगे बढ़ाने पर अच्छे परिणाम इस रूप में सामने आते हैं।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने ​उपमुख्यमंत्री एवं विभागीय मंत्री केशव प्रसाद मौर्य, विभाग के राज्य मंत्रियों का विशेष रूप से आभार जताया।