लखनऊ (NNI Live) :- राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर द्वारा विकास दूबे मामले में भेजी गयी शिकायत पर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक से 06 सप्ताह में रिपोर्ट मानते हुए 02 सितम्बर, 2020 को सुनवाई की तारीख नियत की है।

नूतन ने अपनी शिकायत में विकास के मामा प्रेम प्रकाश पाण्डेय तथा अतुल दूबे, उसके सहयोगी प्रभात मिश्रा तथा प्रवीण दूबे एवं विकास को भारी पुलिस बल की मौजूदगी में मारे जाने, विकास का घर बिना आदेश के गिराए जाने तथा उसकी पत्नी व बच्चे से किये गए बर्ताव की जांच की मांग की थी।

नूतन ने कहा कि उन्हें विश्वसनीय सूत्रों ने बताया कि 07 जुलाई को एसटीएफ द्वारा कानपुर से लखनऊ एसटीएफ मुख्यालय लाये गए विकास दुबे के खास जय वाजपेयी के साथ या तो कोई अनहोनी की जा चुकी है या होने वाली है। यह पूरी तरह गैरकानूनी तो होगा ही, साथ ही पारदर्शिता के दृष्टिगत भी बहुत घातक व खतरनाक होगा। अब एक जय ही बचा है जो विकास दूबे के सारे राज जानता है और इस मामले में पुलिस एवं प्रशासनिक अफसरों एवं नेताओं की पोल खोल सकता है। ऐसे में जय के साथ कोई अनहोनी होने से सारा राज समाप्त हो जायेगा। नूतन ने कहा कि वे सच जानने कल बुधवार को एसटीएफ मुख्यालय जाएंगी।