लखनऊ (NNI Live) :- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (यूपीएसआरटीसी) की नवीन परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस मौके पर परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अशोक कटारिया भी मौजूद रहे।इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेशवासियों को अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुविधा प्रदान करने के संकल्प के साथ नवीन बस स्टेशन उपलब्ध हो रहा है और आने वाले समय में कुछ और नए बस स्टेशन उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा कि अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है।

मुख्यमंत्री ने अपने 5, कालिदास मार्ग स्थित सरकारी आवास पर आयोजित कार्यक्रम में कहा कि कोरोना संकट के दौरान उत्तर प्रदेश परिवहन निगम ने अपने आप को साबित किया है, क्योंकि सामान्य दिनों में हर व्यक्ति एवं संस्था अपना काम कर सकती है। लेकिन, आपदा एवं चुनौतियों से जूझते हुए परिणाम दे पाना यह किसी भी व्यक्ति और संस्था के लिए सबसे बड़ी कसौटी होती है और उस कसौटी पर खरा उतरकर परिवहन निगम ने खुद को साबित किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे याद है जब कोरोना को लेकर लॉकडाउन की कार्यवाही प्रारंभ हुई थी, तब परिवहन निगम ने यह विश्वास जगाया था, हम हर समय उपलब्ध रहेंगे। प्रयागराज कुम्भ का सफलतापूर्वक आयोजन कराने में परिवहन निगम ने एक बड़ी भूमिका का निर्वहन किया था। कुम्भ एक ऐसा आयोजन था, जिसमें बड़ी संख्या में देश और दुनिया के श्रद्धालु आए थे। उन्हें सुरक्षित गंतव्य तक पहुंचाने या प्रयागराज तक पहुंचाने में परिवहन निगम ने बहुत बड़ी भूमिका का निर्वहन किया था।

मुुुुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा के दौरान भी कौशल दिखा पाना, एक बड़ी चुनौती होती है। जब लॉकडाउन की कार्यवाही प्रारम्भ हुई, तब दिल्ली बॉर्डर पर लाखों की संख्या में जमावड़ा शुरू हो गया, लोग पैदल ही चल रहे थे, उस समय उन्होंने मंत्रियों एवं परिवहन विभाग के अधिकारियों को बुलाया।

उनसे कहा कि इस समस्या का समाधान निकलना ही चाहिए और देखते ही देखते-देखते परिवहन विभाग के अधिकारी, चालक-परिचालकों एवं सभी लोगों ने अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए पूरी तत्परता के साथ कार्य किया। 48 घंटों के अंदर लगभग 3.50 से 4 लाख लोगों को सुरक्षित उनके गंतव्य तक पहुंचाने का कार्य किया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी तरह प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोटा गए प्रदेश के लगभग 12,500 छात्र-छात्राओं को वापस प्रदेश में लाने की चुनौती हमारे सामने थी क्योंकि छात्र-छात्राएं और उनका परिवार लगातार गुहार लगा रहे थे। तब मैंने परिवहन निगम को निर्देश दिए और कुशलतापूर्वक छात्र-छात्राओं को उनके गंतव्य तक पहुंचाने का कार्य किया गया। यह देश, दुनिया एवं अन्य राज्यों के लिए एक घटना बनी कि वास्तव में कैसे सुरक्षित रेस्क्यू किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के दौरान हमारे सामने एक चुनौती तब आयी, जब अचानक बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक एवं कामगार देश के अलग-अलग हिस्सों से प्रदेश के लिए पलायन कर रहे थे। इनकी संख्या लगभग 35 लाख थी। हम आभारी हैं, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रेल मंत्री पियूष गोयल के, जिन्होंने श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाकर, हमें संबल प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवहन विभाग ने भी दिन-रात मेहनत की और 35 लाख से अधिक प्रवासी कामगारों-श्रमिकों को सुरक्षित उनके घरों तक पहुंचाया गया।

उन्होंने कहा कि कोरोना के प्रोटोकॉल को पूरा करते हुए परिवहन निगम अपने कार्यों को आगे बढ़ा रहा है। इस दौरान मास्क, सैनिटाइजर और शारीरिक दूरी का पालन भी सुनिश्चित कराया जा रहा है

लोगों के मन में तमन्ना थी कि हमारे बस स्टेशन भी एयरपोर्ट की तर्ज पर चमकते हुए दिखाई देने चाहिए। इस परिकल्पना को उत्तर प्रदेश परिवहन निगम आज साकार करता हुआ दिखाई दे रहा है। हमने विगत वर्ष लखनऊ में एक बस स्टेशन का लोकार्पण किया था। आज हम लखनऊ में एक और बस स्टेशन का लोकार्पण कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के समय में जनता अच्छी सुविधाएं चाहती है। लोगों को पब्लिक ट्रांसपोर्ट की बेहतर व्यवस्था चाहिए, जहां सभी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध हों। इस दृष्टि से अगर हम जनता को सुविधाएं दे सकेंगे, तो वह देश और दुनिया के लिए मॉडल होगा। परिवहन विभाग निरंतर इस दिशा में प्रयत्नशील है।

उन्होंने कहा कि एक ओर हम यहां पर लोकार्पण एवं शिलान्यास का कार्यक्रम कर रहे हैं, वहीं एक अन्य कार्यक्रम बसों के फ्लैगऑफ का रखा गया है, यानी कि जब दुनिया कोविड से सहमी है, उस समय भी परिवहन निगम, जनता की सुविधा के लिए समर्पित भाव के साथ कार्य करता हुआ दिखाई दे रहा है।

उन्होंने कहा कि जन आकांक्षाओं का प्रतीक बनकर उत्तर प्रदेश परिवहन निगम जिस मजबूती के साथ आगे बढ़ रहा है, वह एक सराहनीय प्रयास है। मुख्यमंत्री ने विश्वास जताया कि उत्तर प्रदेश की 24 करोड़ जनता, उत्तर प्रदेश शासन की योजनाओं का लाभ इसी रूप में निरंतर लेते हुए, प्रदेश को विकास एवं समृद्धि की नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में अपना योगदान देगी।

इन परियोजनाओं का किया लोकार्पण-शिलान्यास

नवनिर्मित अवध बस स्टेशन, अयोध्या मार्ग (लखनऊ) चित्रकूट, नैमिषारण्य (सीतापुर), डिबाई (बुलन्दशहर) बस स्टेशन, बस शेल्टर, रूधौली (बस्ती), मनकापुरा (गोण्डा) का लोकार्पण तथा गुरसहायगंज (कन्नौज), जालौन, कांठ (मुरादाबाद), दिबियापुर (औरैया), अलीगंज (एटा), बदलापुर (जौनपुर), चायल (कौशाम्बी) नवीन बस स्टेशन का शिलान्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने मुख्यमंत्री आवास के सामने से बसों को हरी झंडी दिखाकर आगे के सफर के लिए रवाना भी किया।