मेरठ :- कुख्यात बदमाश विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश से बदमाशों का सफाया करने के लिए उत्तर प्रदेश के डीजीपी और एसटीएफ को आदेश दिए हैं जिसके बाद से लगातार एसटीएफ उत्तर प्रदेश बदमाशों का खात्मा करने में लग रही है। इसी का डर अब बदमाशों के परिजनों को भी सताने लगा है । बदमाश भी अब एसटीएफ से बचने के लिए खुद ही सरेंडर कर रहे हैं तो वही जेल में बंद कुख्यात बदमाशों के परिजन उनकी सुरक्षा के लिए न्यायालय की शरण ले रहे हैं।

ऐसा ही एक मामला मेरठ के कुख्यात बदमाश उधम सिंह से जुड़ा है जिसका नाम प्रदेश के टॉप 25 बदमाशों लिस्ट में नाम आता है जो इस वक्त आजमगढ़ की जेल में बंद है। उधम सिंह पर कई हत्या और रंगदारी के मुकदमे भी दर्ज हैं जिसको लेकर उसको अलग-अलग जिलों में पेशी पर आना पड़ता है लेकिन अब उधम सिंह के परिजनों को उसके एनकाउंटर का डर सताने लगा है बता दे उधम सिंह की पत्नी पुष्पा सिंह ने उधम सिंह की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है उधम की पत्नी ने बताया जिस वक्त एसटीएफ उधम सिंह को पेशी पर लेकर आती है तो उन्हें इस बात का डर सता रहा है कहीं पेशी के दौरान ही उधम सिंह का एसटीएफ एनकाउंटर ना कर दे। इसीलिए उन्होंने न्यायालय की शरण लेते हुए उधम की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। जिससे उधम सिंह को सुरक्षा मिल सके और एसटीएफ फर्जी एनकाउंटर ना कर सके। उधम सिंह के वकील ने बताया कि उधम सिंह को पेशी पर लाते समय एसटीएफ ने किठौर में पहले भी उस पर हमला किया था उसी आशंका से कहि फिर से ऐसी घटना ना हो न्यायालय में इसलिए उधम सिंह की पत्नी के कहने पर सुप्रीम कोर्ट में उधम की सुरक्षा के लिए एक याचिका दायर की गई है।

आपको बता दें उधम सिंह की पत्नी पुष्पा सिंह मौजूदा वक्त में करनावल गांव की चेयरमैन भी है जब से विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया है तभी से उन्हें भी उधम सिंह की हत्या की पूरी आशंका हो रही है पुष्पा सिंह का कहना है उनका कहना है उधम सिंह को सुरक्षा मिले और एसटीएफ उनका एनकाउंटर ना करें इसी के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है।

उत्तर प्रदेश पुलिस लगातार बदमाशों का एनकाउंटर में सफाया कर रही है अब उत्तर प्रदेश पुलिस बदमाश उधम सिंह को लेकर क्या व्यवहार रखेगी यह तो आने वाला समय ही बताएगा।