लखनऊ (NNI Live) :- लोकभवन के सामने 17 जुलाई को आग लगाने वाली मां-बेटी में बुधवार के इलाज के दौरान मां सोफिया की मौत हो गयी। पोस्टमॉर्टम के बाद शव को उसके गृह जनपद ले जाया जायेगा।

मूलरुप से अमेठी जनपद के जामो कोतवाली क्षेत्र के कस्बा निवासी सोफिया व अलगू के बीच नाली के विवाद को लेकर नौ मई को मारपीट हुई थी। वहीं, सोफिया की बेटी गुड़िया ने अलगू के बेटे अर्जुन समेत चार लोगों पर छेड़खानी का मुकदमा दर्ज कराया था। जबकि अर्जुन की ओर से भी सोफिया उसकी बेटी गुड़िया और एक अन्य पर मुकदमा दर्ज हुआ था। पुलिस कार्रवाई  न होने पर 17 जुलाई को मां सोफिया और बेटी गुड़िया ने लोकभवन के सामने आत्मदाह कर लिया था। पुलिस ने झुलसी मां-बेटी को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया था। सोफिया गंभीर रूप से जल गई थी और बुधवार को उसने दम तोड़ दिया। परिवार के लोग पोस्टमार्टम के बाद शव को घर ले जायेंगे। वहीं, अमेठी पुलिस ने भी सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए हैं।

निलंबित किए गये थे पुलिस कर्मी 

लोकभवन के सामने मां-बेटी के आत्मदाह करने के मामले में लापरवाही बरतने पर लखनऊ के चार पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया था। वहीं, अमेठी एसपी ने तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित किया था। पुलिस ने इस मामले में एक नेता समेत तीन लोगों को जेल भेजा था।