गोण्डा (NNI Live) :- जनपद के गुटखा व्यापारी के सात साल के बेटे नमों को यूपी एसटीएफ ने 14 घंटे के भीतर ही सकुशल बरामद कर लिया है। बेटे का सकुशल पाकर जहां परिवार खुश है। तो वहीं अपर पुलिस महानिदेशक कानून एवं व्यवस्था प्रशांत कुमार ने कहा है कि इस अपहरणकांड में महिला समेत पांच लोग पकड़े गए हैं। इस षडयंत्र में कई और लोग भी शामिल है, जिन्हें गिरफ्तार कर षडयंत्रकारियों का जल्द ही खुलासा किया जायेगा। 
 
अपर पुलिस महानिदेशक ने प्रेसवार्ता के दौरान यह बताया कि जैसे ही यह पता चला कि गोण्डा में एक व्यापारी के सात साल के बेटे नमो का अपहरण हो गया है। उन्होंनें फौरन इस अपहरण का खुलासा करने के लिए यूपी एसटीएफ को लगाया। वह और एसटीएफ आईजी स्वयं इस केस की मॉनिटिरींग कर रहे थे। इसका यह नतीजा निकला कि यूपी एसटीएफ और गोंडा पुलिस की सयुंक्त टीम ने 14 घंटे के भीतर ही अपहरणकर्ताओं को मुठभेड़ में धर दबोचा और बच्चे को सकुशल परिवार के सुपुर्द कर दिया। 
 
बताया कि इस अपहरणकांड में परसपुर के शाहपुर निवासी सूरज पाण्डेय, उनकी पत्नी छवि पाण्डेय और भाई राज पाण्डेय, सकरोड़ा निवासी उमेश यादव और सोनवरा निवासी दीपू कश्यप को गिरफ्तार किया। इस मुठभेड़ में दीपू और उमेश गोली से घायल हुए है। एसटीएफ इनके कब्जे से एक अल्टो कार, 32 बोर पिस्टल, एक तमंचा व कारतूस बरामद किया है। 
 
बच्चे को सकुशल पाकर खुश है परिवार 
 
एडीजी लॉ एण्ड आर्डर ने जैसे ही नमों को उनकी माता व पिता को सुपुर्द किया। यह देखकर नमों की मां के आंखों में आंसू आ गए। पिता ने हाथ जोड़कर उनका शुक्रिया किया। इस दौरान उन्होंने यह कहा है कि कभी उन्होंने भगवान को नहीं देखा, लेकिन आज अपहरणकर्ताओं से उनके बच्चों को सकुलश लौटाने वाली पुलिस ही उनके लिए भगवान है। 
कौन-कौन शामिल है इस षडयंत्र में 
 
एडीजी ने कहा है कि अपहरणकर्ताओं से बच्चें का सकुशल बरामद करना यह यूपी एसटीएफ और पुलिस के लिए बहुत बड़ी चुनौती थी। पुलिस ने इसे बाखूबी तरीके से निभाया और अपहरणकर्ताओं से बच्चें का सकुशल बरामद कर लिया है। प्राथमिक जांच में अभी पता चला है कि इस अपहरणकांड में कई और लोग भी शामिल है। पुलिस अब उन षडयंत्र कारियों को पता लगाने में जुटी हुई है, जो इस मामले संलिप्त थे।